3 दिन के बच्चे को फुटपाथ पर बिलखता छोड़कर भागी कार सवार महिलाUpdated: Tue, 10 Oct 2017 10:27 PM (IST)

प्लेटफार्म नं 3 के बाहर मंगलवार की सुबह कार से आई एक महिला 3 दिन के बच्चे को रोता छोड़कर भाग निकली।

जबलपुर। मदनमहल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नं 3 के बाहर मंगलवार की सुबह कार से आई एक महिला 3 दिन के बच्चे को रोता छोड़कर भाग निकली। बच्चे के रोने की आवाज सुनकर कुछ ऑटो चालक मौके पर पहुंचे तो मासूम को देखकर हैरान रह गए।

कुछ देर आसपास बच्चे की मां की तलाश करने के बाद ऑटो वालों ने उसे मदनमहल थाने पहुंचाया। इस दौरान मासूम भूख के कारण लगातार रो रहा था। काफी कोशिश के बाद भी बच्चा शांत नहीं हुआ तो पुलिस ने उसे संभालने के लिए एक महिला को बुलाया। फिर बच्चे को एल्गिन अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने चेकअप के बाद बच्चे का जन्म 3 से 4 दिन पहले होने की बात बताई। मासूम पूरी तरह स्वस्थ बताया गया है। उसे नर्सरी में रखकर डॉक्टर उसकी देखभाल कर रहे हैं।

प्राथमिक जांच में पुलिस को पता चला कि बच्चे को सुबह 4.30 बजे सफेद रंग की कार से उतरी सलवार सूट पहनी एक महिला छोड़कर गई थी। बच्चा कपड़ों की गुदड़ी और साड़ी के टुकड़े में लिपटा हुआ था। पुलिस बच्चे को फेंकने वालों की तलाश में मदनमहल रेलवे स्टेशन पहुंची तो पता चला कि रिजर्वेशन काउंटर को छोड़कर स्टेशन के किसी भी हिस्से में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं।

जिस जगह पर बच्चा मिला था वहां 500 मीटर का क्षेत्र पूरी तरह खुला है। फिलहाल आसपास के भवनों पर लगे कैमरों की रिकॉर्डिंग से सफेद रंग की उस कार को ट्रेस करने की कोशिश की जा रही है, जिससे बच्चे को फेंकने वाली महिला आई थी।

ट्रेन के जाते ही मिला बच्चा

ऑटो चालकों के अनुसार सुबह 4.30 बजे भोपाल से ओवरनाइट एक्सप्रेस स्टेशन पर पहुंची थी। ट्रेन के रवाना होने के कुछ देर बाद ही बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी। पुलिस का अनुमान है कि बच्चे को महिला दूसरे शहर से ट्रेन में लाई होगी और स्टेशन के बाहर छोड़कर कार से भाग गई होगी।

राहगीर महिला ने की देखरेख

जब ऑटो चालक बच्चे के पास पहुंचे तो वह ठंड के कारण बुरी तरह कांप रहा था। जिसे गमछे व अन्य कपड़े में लपेटा गया तो उसे थोड़ी राहत मिली। थाने में पुलिसकर्मियों की लाख कोशिश के बाद भी बच्चा चुप नहीं हो रहा था। इससे सभी परेशान थे।

इसी दौरान एक महिला थाने के सामने से गुजरी, तो पुलिसकर्मियों ने उसे बच्चे के बारे में बताते हुए मदद मांगी। महिला तैयार हो गई और फौरन बच्चे को गोद में ले लिया। महिला की गोद में जाते ही बच्चा शांत हो गया। इस बीच एक व्यक्ति होटल से दूध लेकर आया, जिसे महिला ने बच्चे को पिलाकर पूरी तरह शांत कराया।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.