मध्‍यप्रदेश में मानसून के कारण पेयजल संकट के आसारUpdated: Sun, 13 Aug 2017 08:58 AM (IST)

अगले 15 दिन में बारिश नहीं हुई तो प्रदेश में जलसंकट गहराने की आशंका है।

इंदौर। अगले 15 दिन में बारिश नहीं हुई तो प्रदेश में जलसंकट गहराने की आशंका है। खास तौर पर पीने के पानी को लेकर चिंता बढ़ गई है। प्रदेश के 20 जिले अभी से खतरे के दायरे में हैं, जहां एक जून से 12 अगस्त के बीच सामान्य से 20 फीसदी कम बारिश हुई है।

मौसम विभाग का मानना है कि मानसून का अभी डेढ़ माह बाकी है। तेज बारिश के अभाव में जल स्रोत न भरने और भूजल स्तर में बढ़ोतरी न होने से स्थिति बिगड़ रही है। शाजापुर जिले को जल अभावग्रस्त घोषित कर दिया है। मानसून में संभवत: ऐसा पहली बार हुआ है। धार और देवास जिले में भी स्थिति गंभीर है। पीएचई विभाग के अनुसार उज्जैन में जलापूर्ति केंद्र गंभीर जलाशय में 30 दिन का पानी बचा है।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.