तुम्हारा इलाज तो मुख्यमंत्री करवा रहे, मेरा नहीं करा सकते क्या?Updated: Mon, 20 Mar 2017 03:57 AM (IST)

श्वेता तुम्हारा इलाज तो मुख्यमंत्री करवा रहे हैं। वे मेरी मदद नहीं कर सकते क्या? मुझे भी जीना है।

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मुझे घर जाना है। दर्द सहते-सहते मैं थक गया हूं। एक महीना हो गया। मम्मी को भी नहीं देखा। दादा और पापा के पास पैसे भी खत्म हो गए। श्वेता तुम्हारा इलाज तो मुख्यमंत्री करवा रहे हैं। वे मेरी मदद नहीं कर सकते क्या? मुझे भी जीना है।

यह पीड़ा है 14 साल के थैलेसीमिया पीड़ित प्रशांत सेन की। जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रहा गुना का प्रशांत पिता आनंद सीएचएल अस्पताल में भर्ती है। रविवार को जब यहां उसकी मुलाकात इसी बीमारी से पीड़ित श्वेता से हुई तो वह यह कहते हुए रो पड़ा।

प्रशांत गुना की ही श्वेता पिता बनेसिंह के साथ ब्लड चढ़वाने अस्पताल जाता था। वहां दोनों में पहचान हुई और श्वेता प्रशांत को राखी बांधने लगी। पिछले दिनों श्वेता की खबर समाचार पत्र में प्रकाशित होने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएचएल अस्पताल में उसका मुफ्त इलाज कराने की घोषणा की थी।

इसके बाद रविवार को पहली बार श्वेता अस्पताल में इलाज कराने आई। यहां प्रशांत भी भर्ती था। उसकी हालत श्वेता से भी ज्यादा खराब है। आयरन बढ़ जाने से उसकी किडनी, लिवर और हार्ट पर भी असर होने लगा है। डॉक्टरों ने जल्द से जल्द तिल्ली के ऑपरेशन के लिए कहा है।

आईसोवा ने की मदद की शुरुआत

प्रशांत के इलाज के लिए उसकी बुआ लगातार भोपाल में आईएएस अफसर शेखर वर्मा के संपर्क में थी। शेखर ने ही प्रशांत को एमवायएच से निकालकर सीएचएल में भर्ती करवाया। अस्पताल के खर्च की बात आई तो उन्होंने आईसोवा मध्य प्रदेश से संपर्क किया। यह आईएएस अफसरों की पत्नियों का संगठन है। इंदौर में संभागायुक्त रह चुके व वर्तमान में मुख्य सचिव बीपी सिंह की पत्नी इंदु सिंह आईसोवा की अध्यक्ष हैं। उन्होंने बच्चे के इलाज के लिए अन्य सदस्यों को प्रोत्साहित किया। औपचारिकता के तुरंत बच्चे की मदद के लिए 50 हजार रुपए दिए।

दादा बोले- पोते को बचाने में ही बुढ़ापा निकल गया

प्रशांत के दादा प्रीतम सिंह बोले कि चौदह साल से उनकी जिंदगी सिर्फ पोते की जिंदगी बचाने में लगी हुई है। हर पंद्रह दिन में बच्चे को ब्लड चढ़ाने के लिए गुना से उज्जैन लेकर आना-जाना ही जिंदगी बन गई है। दादा-दादी ही बच्चे का ध्यान रखते हैं। प्रशांत ने कहा कि मेरी मम्मी कभी अस्पताल नहीं आती। वह सूई लगते देखकर डर जाती है। हमेशा दादा-दादी ही साथ आते हैं।

अटपटी-चटपटी

  1. समुद्र किनारे मिली अजीब मछली को देख डर गए लोग, देखने जुटी भीड़

  2. फेसबुक चलाने से मना किया तो घर छोड़कर चली गईं बेटियां

  3. कद केवल 2 फीट लेकिन अरमान आसमां से भी ऊंचे

  4. थल सेना भर्ती के लिए बॉडी बिल्डिंग पड़ सकती है महंगी

  5. बीस साल से साथ रह रहे नाग-नागिन ने एक साथ प्राण त्यागे

  6. बेटे की मौत के बाद सास ने बेटी की तरह बहू को किया विदा

  7. भाभी को पत्नी के रूप में स्वीकार करने से मना किया तो कटवा दिए नाक, कान

  8. लड़की को भारी पड़ी सेल्फी, पुलिस ने ली घर की तलाशी और किया गिरफ्तार

  9. 12 साल का 'बच्चा' चार साल बड़ी लड़की को गर्भवती कर पिता बना

  10. अंडे में निकला हीरा, शादी करने जा रही महिला ने माना शुभ

  11. बच्चे को कलेजे से लगाकर ये चमत्कार कर सकती है मां

  12. विदेशी नस्ल का डॉग OLX पर मंगाया, छीनकर भाग गया

  13. 18 साल बाद मिला खून का रिश्ता, फिर हुआ कुछ ऐसा

  14. लकड़ी का ढेर नहीं ये बंदूकें हैं, चुनाव के दौरान हुई हैं जमा

  15. OMG! अपनी सुंदर बीवियों को कुरूप बना देते हैं यहां के लोग

  16. फोटो शूट के दौरान ट्रैक में फंसी मॉडल, चली गई जान

  17. गेम खेलते हुए गुस्से में कम्प्यूटर स्क्रीन पर दे मारा सिर, फिर...

  18. जिराफ जैसा बनने के लिए गर्दन में डाले छल्ले, लेकिन फिर हुआ ऐसा

  19. चार साल के बच्चे ने आईफोन की मदद से बचा ली मां की जान

  20. रेप के दौरान मदद के लिए नहीं चीखी पीड़िता, इसलिए आरोपी बरी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.