सागर,ग्वालियर और चंबल संभाग के 13 जिलों के लिए सेना भर्ती अटकीUpdated: Tue, 14 Nov 2017 09:31 PM (IST)

तीन साल पहले ग्वालियर में हुई आर्मी भर्ती रैली का खौफ अब भी बरकरार है।

ग्वालियर। तीन साल पहले ग्वालियर में हुई आर्मी भर्ती रैली का खौफ अब भी बरकरार है। प्रदेश के 13 जिलों के लिए 7 नवंबर से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होने थे, लेकिन किसी भी कलेक्टर ने अभी तक भर्ती रैली के लिए हरीझंडी नहीं दी है। नतीजन भर्ती रैली सरेंडर करनी पड़ सकती है।

पिछले साल सागर जिले ने हिम्मत दिखाकर भर्ती रैली करा ली थी, लेकिन इस बार 13 जिले के कलेक्टरों में से कोई तैयार नहीं हुआ है। आर्मी रिक्रूटमेंट बोर्ड भिंड जिले से रैली के लिए हां का इंतजार कर रहा है और कुछ दिनों में अगर सहमति नहीं बनी तो रैली सरेंडर कर दी जाएगी।

14 नवंबर 2014 को मेला ग्राउंड में आर्मी भर्ती रैली का खौफनाक मंजर अभी भूला नहीं गया है। रैली में शामिल होने आए हजारों युवओं ने सुबह भर्ती रैली के निरस्त होने की खबर सुनते ही उत्पात मचाना शुरू कर दिया था। उत्पात इतना मचाया कि शासकीय संपत्ति को नुकसान तो पहुंचाया ही, पुलिस व लोगों के वाहनों में भी आग लगाकर हर तरफ लोगों की मारपीट की गई।

भीड़ के रूप में आए युवाओं के उत्पात से पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों तक को जान बचाकर भागना पड़ा था। उत्पात में भिंड-मुरैना के युवक ज्यादातर शामिल थे। इस घटनाक्रम के बाद से अब कोई जिला नहीं चाहता कि उनके यहां भर्ती रैली हो।

600 पद हो जाएंगे सरेंडर

यह आर्मी भर्ती प्रदेश के 13 जिलों के लिए होना है, जिसमें 500 से 600 पद हैं। नवंबर में आर्मी भर्ती रैली होने के बाद फिजिकल और मेडिकल में पास आवेदकों का जनवरी में लिखित टेस्ट होना है। अभी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन ही नहीं हुए और ऐसे में कुछ दिन तक शिड्यूल फायनल नहीं हुआ तो यह पद सरेंडर करने पड़ेंगे।

पिछली साल 71 हजार आवेदक आए

पिछली साल सागर में हुई भर्ती रैली में 600 पदों के लिए 71 हजार से ज्यादा आवेदक शामिल हुए थे। पदों की तुलना में आने वाले आवेदकों की भीड़ इतनी रहती है कि उन्हें संभालना ही चुनौती बन जाता है। इसमें भिंड-मुरैना के आवेदक सबसे ज्यादा रहते हैं।

किसी जिले से नहीं मिली सहमति

सेना भर्ती रैली के लिए किसी भी जिले से अभी तक सहमति नहीं मिली है। कुछ दिन तक और नहीं मिली तो रैली सरेंडर हो जाएगी। भिंड जिले से सहमति का इंतजार है। होम मिनिस्ट्री से भी लगातार बात चल रही है।

कर्नल मनीष चतुर्वेदी,डायरेक्टर,आर्मी भर्ती बोर्ड

पर्याप्त बल और संसाधन जरूरी

सेना भर्ती रैली के लिए पर्याप्त संसाधन व बल की जरूरत है। इसमें हजारों आवेदक आते हैं। इसके बाद रैली आयोजन सुचारू रूप से हो पाएगी। शासन भी तैयारी कर रहा है,जैसे निर्देश मिलेंगे,पालन किया जाएगा।

इलैया राजा, कलेक्टर,भिंड

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.