भोपाल गैस त्रासदी की 31 वीं बरसी पर सर्वधर्म प्रार्थना सभाUpdated: Wed, 02 Dec 2015 07:27 PM (IST)

भोपाल गैस त्रासदी दिवस पर बरकतउल्ला भवन, सेन्‍ट्रल लायब्रेरी में सुबह 10.30 बजे से सर्वधर्म प्रार्थना सभा का आयोजन किया जा रहा है।

भोपाल । 3 दिसम्बर को भोपाल गैस त्रासदी दिवस पर बरकतउल्ला भवन, सेन्‍ट्रल लायब्रेरी में सुबह 10.30 बजे से सर्वधर्म प्रार्थना सभा का आयोजन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में दिवंगत गैस पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। गैस त्रासदी की 31 वीं बरसी पर विभिन्न धर्मगुरू धर्म ग्रन्थ के अंश का पाठ भी करेंगे। कार्यक्रम में आम नागरिक भी हिस्सा ले सकेंगे।

राज्‍यपाल की श्रद्धांजलि

राज्यपाल राम नरेश यादव ने भोपाल गैस त्रासदी की बरसी पर त्रासदी से मृत लोगों को श्रद्धांजलि दी है। राज्यपाल ने शारीरिक और मानसिक रूप से पीड़ित लोगों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

पुनरावृत्ति न हो इसके लिए ठोस प्रबंध हों

राज्यपाल ने कहा है कि भोपाल गैस त्रासदी ने पर्यावरण और औद्योगिक सुरक्षा की ओर विश्व के सभी देशों का ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने वर्ष 1984 में दो और तीन दिसम्बर की मध्य रात्रि को यूनियन कार्बाइड कम्पनी में रसायनिक गैस रिसाव के फलस्वरूप विश्व की सबसे बड़ी गैस त्रासदी के पीड़ितों के आर्थिक पुनर्वास,स्वास्थ्य और अन्य समस्याओं को हल करने पर जोर दिया है।उनके अनुसार भविष्य में ऐसी दुर्घटना की पुनरावृत्ति न हो इसके पुख्ता प्रबंध किये जाने चाहिए।

15 हजार से अधिक की जान गई थी

राजधानी में सन् 1984 में हुई इस भयानक औद्योगिक दुर्घटना को भोपाल गैस कांड, या भोपाल गैस त्रासदी के नाम से जाना जाता है। भोपाल स्थित यूनियन कार्बाइड नामक कंपनी के कारखाने से एक ज़हरीली गैस का रिसाव हुआ जिससे लगभग 15000 से अधिक लोगों की जान गई तथा अनेक लोग अनेक तरह की शारीरिक अपंगता से लेकर अंधेपन के भी शिकार हुए।


मिक नामक जहरीली गैस रिसी थी

भोपाल गैस काण्ड में मिथाइलआइसोसाइनाइट (मिक) नामक जहरीली गैस का रिसाव हुआ था। जिसका उपयोग कीटनाशक बनाने के लिए किया जाता था।

भोपाल गैस त्रासदी को मानवीय समुदाय और पर्यावरण को सबसे ज़्यादा प्रभावित करने वाली औद्योगिक दुर्घटनाओं में गिना जाता है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.