पोस्टमैन भर्ती परीक्षा देने आया मुन्नाभाई, शर्ट बदलने के बाद भी पकड़ा गयाUpdated: Mon, 20 Mar 2017 07:32 PM (IST)

राजधानी में आरक्षक भर्ती परीक्षा के बाद अब पोस्टमैन भर्ती परीक्षा में भी एक मुन्नाभाई टीटी नगर पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

भोपाल। राजधानी में आरक्षक भर्ती परीक्षा के बाद अब पोस्टमैन भर्ती परीक्षा में भी एक मुन्नाभाई टीटी नगर पुलिस के हत्थे चढ़ गया। आरोपी ने अपनी जगह परीक्षा देने वाले की शर्ट बदलकर झांसा देने का प्रयास किया, लेकिन वह पकड़ा गया। आरोपी के साइन और हैंडराइटिंग मूल दास्तों से अलग होने पर इसका खुलासा हुआ।

टीटी नगर पुलिस के अनुसार पिछले साल पोस्टमैन परीक्षा में हरियाणा के ही 150 उम्मीदवार चयनित हो गए थे।

गड़बड़ी का खुलासा होने के बाद गत रविवार 19 मार्च को उन सभी परीक्षार्थियों की दोबारा परीक्षा आयोजित की गई। इसी में मुंदालखुर्द, जिला भिवानी, हरियाणा का रहने वाला प्रीतम धानक (24) भी शामिल हुआ। परीक्षा मॉडल हायर सेकंडरी स्कूल टीटी नगर में आयोजित की गई थी। पहली शिफ्ट की परीक्षा होने के बाद कापियां जांच के दौरान सभी परीक्षार्थियों को अंदर बुलाया गया।

इसी दौरान सभी परीक्षार्थियों के मूल दास्तावेजों पर दोबारा साइन लेने की प्रक्रिया शुरू हुई। जांच के दौरान प्रीतम के साइन मेल नहीं खाए। पर्यावेक्षकों को कुछ शक होने पर उन्होंने उससे पूछताछ की तो उसने पूरा सच उगल दिया। स्कूल प्रबंधन ने तत्काल टीटी नगर पुलिस को घटना की सूचना दी। पूछताछ और दस्तावेजों के आधार पर पुलिस ने पर्यवेक्षक कुशल सिंह तोमर की शिकायत पर रविवार रात करीब 8 बजे आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया।

ऐसे दिया धोखा

आरोपी प्रीतम ने अपनी जगह अपने दोस्त नरेंद्र को परीक्षा में बैठाया था। नरेंद्र हिसार का रहने वाला बताया जाता है। लिखित परीक्षा के बाद नरेंद्र बाहर आ गया और प्रीतम उसकी शर्ट पहनकर अंदर चला गया। शर्ट वही होने के कारण पहली नजर में उसकी जालसाजी का पता नहीं चला।

ऐसे पकड़ा गया

परीक्षा प्रारंभ होने के समय नरेंद्र ने फार्म पर साइन किए थे। परीक्षा के बाद प्रीतम ने जब फार्म पर दोबारा साइन किए तो वह भिन्न् थे। इसके बाद उससे कोरे कागज पर कुछ लाइन लिखने को कहा। यह लिखाई परीक्षा उत्तर पुस्तिका की लिखाई से मेल नहीं खाई। इससे उसकी धोखाधड़ी पकड़ी गई।

बनाता रहा बहाना

टीटी नगर पुलिस से पूछताछ में प्रीतम ने बताया कि उसकी ऐसे ही नरेंद्र से मुलाकात हो गई थी। वह उसका दोस्त है, लेकिन उसे उसके बारे में ज्यादा पता नहीं है। उसने नरेंद्र को परीक्षा में बैठने के लिए कोई रुपए भी नहीं दिए। उसे परीक्षा केंद्र पहुंचने में देरी हो गई थी, इसलिए उसकी जगह नरेंद्र परीक्षा देने पहुंच गया।

इनका कहना

संदेह होने पर प्रीतम से साइन और कुछ लिखवाया गया, लेकिन वह मेल नहीं खाया। वह आरोपी की शर्ट पहनकर आ गया था। शक पक्का होने के बाद आरोपी को टीटी नगर पुलिस के हवाले कर दिया।

कुशल सिंह तोमर, पर्यवेक्षक

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.