70 हजार की नहीं 17 लाख का निकला मंडी बोर्ड में नौकरी दिलवाने का फर्जीवाड़ाUpdated: Sun, 13 Aug 2017 03:59 AM (IST)

मंडी बोर्ड में नौकरी दिलवाने के नाम पर की गई ठगी के एक नहीं बल्कि 21 लोग शिकार हुए हैं।

भोपाल। मंडी बोर्ड में नौकरी दिलवाने के नाम पर की गई ठगी के एक नहीं बल्कि 21 लोग शिकार हुए हैं। यह मामला महज 70 हजार का नहीं बल्कि 17 लाख रुपए की ठगी का है। दो दोस्तों ने मिलकर एक साल तक अपने करीबियों को ही शिकार बनाया। बाद में जब शिकायत हुई तो दोनों फरार हो गए। जहांगीराबाद पुलिस ने शनिवार को दोनों आरोपियों गिरफ्तार कर पूछताछ की तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। ठगे गए लोग भोपाल से लेकर होशंगाबाद तक के हैं।

जहांगीराबाद टीआई प्रीतम सिंह के मुताबिक आरोपी रविशंकर मालवीय बेहद शातिर है। वह अपने दोस्त अखिलेश नापित नामक युवक के साथ मिलकर लोगों को ठगता था। उसने अपने पड़ोसी दुलीचंद अहिरवार न्यू चर्च रोड जहांगीराबाद से भी प्यून की नौकरी दिलवाने के नाम पर 70 हजार रुपए ठगे थे। नौकरी नहीं मिलने पर दुलीचंद ने जब शिकायत की तो खुद को फंसता देख रविशंकर ने सभी 21 लोगों को साथ लेकर अखिलेश के नाम पुलिस में शिकायत कर दी और फिर दोनों फरार हो गए। जिन्हें शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों ने पूछताछ में उन 21 लोगों के नाम उजागर किए हैं जिन्हें उन्होंने ठगा हैं

दोस्त ने दोस्त को ठगा, बाद में दोनों बन गए जालसाज

ठगी के इस सिलसिले की शुरूआत रविशंकर से ही हुई थी। सबसे पहले अखिलेश ने ही उसे मंडी बोर्ड में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगा था। जब रविशंकर को ठगे जाने का पता चला तो वह शिकायत करने के बजाए अखिलेश के साथ मिलकर ठगी करने लगा। दोनों ने मिलकर अपने करीबी 21 लोगों का नौकरी का झांसा देकर करीब 17 लाख रुपए ठगे।

सरकारी आदेश की तरह ही देते थे नियुक्ति पत्र

विशेष भर्ती अभियान का हवाला देकर दोनों नियुक्ति आदेश निकालते थे, जो बिलकुल सरकारी पत्र की तरह होता था। संबंधित लोगों को दस्तावेज प्रमाणीकरण के लिए भी बुलाते थे। इस दौरान रविशंकर आवेदक को कृषि उपज मंडी कार्यालय साथ लेकर जाता था।

रिश्तेदार को भी नहीं छोड़ा

ठगी की शिकार पिपलिया जाहिर पीर भोपाल निवासी रचना ठाकुर ने बताया कि रविशंकर उनका परिचित है। उसने नौकरी लगवाने का झांसा देकर 40 हजार रुपए लिए थे। अभी तक कोई नौकरी नहीं मिली। भोईपुरा बुधवारा निवासी पवन मालवीय ने बताया कि आरोपी उनका रिश्तेदार है, जिसने नौकरी का लगवाने का झांसा देकर 1 लाख 40 हजार रुपए लिए थे। रिश्तेदारी और करीबी होने के कारण वह उसके झांसे में फंस गए थे।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.