सोनू निगम ने लाउडस्पीकर से अजान को गुंडागर्दी बतायाUpdated: Mon, 17 Apr 2017 10:19 AM (IST)

सोनू निगम ने कहा कि अगर वो मुस्ल‍िम नहीं हैं तो मस्जिद की अजान की आवाज से उनको क्यों रोज सुबह उठना पड़ता है।

मुंबई। हिंदी फिल्मों के जाने-माने पार्श्वगायक सोनू निगम ने मस्जिदों में लाउडस्पीकरों से अजान पढ़ने पर सवाल उठाते हुए इसे गुंडागर्दी करार दिया है। इसके अलावा उन्होंने मंदिरों और गुरद्वारों में भी लाउडस्पीकर लगाकर प्रार्थना करने पर सवाल उठाया है। सोमवार को एक के बाद एक ट्वीट करते हुए उन्होंने इस मुद्दे पर अपनी नाराजगी का इजहार किया। 43 वर्षीय गायक ने कहा, "मुझे नहीं लगता कि धार्मिक स्थलों को लाउडस्पीकर के जरिये लोगों को जगाने की इजाजत दी जानी चाहिए।" उन्होंने इसको धार्मिकता थोपने जैसा बताते हुए इसे खत्म करने की मांग की।

सोमवार सुबह अपने पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, "भगवान सबका भला करे। मैं मुस्लिम नहीं हूं और हर सुबह मेरी नींद अजान से खुलती है। भारत में धर्म को लेकर यह जबरदस्ती कब खत्म होगी?" इसके बाद उन्होंने अगला ट्वीट किया, "और हां, मुहम्मद ने जब इस्लाम बनाया तब बिजली नहीं थी। तो फिर एडिसन के बाद मुझे यह शोर क्यों सुनना पड़ता है?"

इसके बाद सोनू ने इस मुद्दे पर हिंदू और सिख धर्म की भी आलोचना की। उन्होंने लिखा, "मुझे ऐसे मंदिर या गुरुद्वारे पर भी विश्वास नहीं है, जो उनका धर्म नहीं मानने वालों को लाउडस्पीकर की तेज आवाज से उठाते हैं।"

सोशल मीडिया पर उतरे लोग

सोनू निगम द्वारा यह मामला उठाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर लोग खुलकर उनके पक्ष और विपक्ष में उतर आए। फिल्म निर्माता विवेक अग्निहोत्री ने ट्वीट किया, "मैं लाउडस्पीकरों पर गैरकानूनी अजान और अन्य धार्मिक प्रार्थनाओं के खिलाफ मुहिम शुरू करना चाहता हूं। मुझे एक अच्छा-सा हैशटैग बताइए।" अलीगढ़ फिल्म के लेखक अपूर्व असरानी ने ट्वीट किया, "मैं सुबह-सवेरे अजान नहीं सुनना चाहता। लेकिन, मैं शाम के समय चिकनी चमेली की तर्ज पर गणेश आरती भी नहीं सुनना चाहता। सभी धर्मस्थलों पर लाउडस्पीकरों को प्रतिबंधित किया जाना चाहिए।"

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.