बेटा एमबीबीएस,फर्जी डिग्री वाला पिता कर रहा था एलोपैथी में इलाजUpdated: Sat, 18 Mar 2017 09:31 PM (IST)

झोलाछाप कथित डॉक्टर्स पर 2 दिन से जारी कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है।

रायपुर। जिले में झोलाछाप कथित डॉक्टर्स पर 2 दिन से जारी कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है। शनिवार को स्थिति यह थी कि जिन क्लीनिक, लैब और नर्सिंग होम की सूची लेकर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से टीम निकलीं, उनमें से आधे में ताला लटका हुआ था। कई ने तो अपनी दुकानों के बोर्ड हटा लिए थे तो कुछ ने डॉक्टर-पदनाम वाले बोर्ड पर पेंट पोत दिया था, ताकि पहचान उजागर न हो। यह सबकुछ बदनामी के डर से बचने किया गया।

टाटीबंध स्थित साहू दवाखाना में डिप्टी कलेक्टर विभोर अग्रवाल के नेतृत्व में स्वास्थ्य दल ने दबिश दी। यहां इलाज कर रहे सीएल साहू के पास मान्यता प्राप्त डिग्री नहीं है, लेकिन बेटा एमबीबीएस बताया जा रहा है, जिसकी डिग्री की आड़ में सीएल साहू एलोपैथी से इलाज कर रहे थे। ड्रिप चढ़ा रहे थे, एलोपैथी की दवाएं दे रहे थे।

कार्रवाई के दौरान आस-पड़ोस के लोगों ने डिप्टी कलेक्टर के साथ बहस भी की, लेकिन दूकान सील बंद कर दी गई। बता दें कि साहू दवाखाना शुक्रवार को बंद करवाया था, लेकिन शनिवार को सील तोड़ दोबारा खोल दिया गया। इन्हें चेतावनी दी गई है कि अगर दवाखाना खुला तो सीधे एफआईआर होगी। पुलिस ने पंचनामा दवाखाना में चस्पा कर दिया है। ऐसे कई केस हैं।

सूत्र बताते हैं कि फर्जी डिग्रीवाले एक मंत्री के बंगले पहुंचे थे, कार्रवाई रुकवाने की मांग की, लेकिन मंत्री ने भी एक्ट का हवाला देकर इन्हें चलता कर दिया। बता दें कि नर्सिंग होम एक्ट के तहत अपनी पैथी में ही इलाज कर सकते हैं। छत्तीसगढ़ मेडिकल काउंसिल, डेंटल, नर्सिंग, फिजियोथैरेपी, पैरामेडिकल काउंसिल में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। इसके बिना डिग्री फर्जी/अमान्य मानी जाएगी। शनिवार को 292 में टीम पहुंचीं, जिनमें से 162 बंद मिलीं और 125 को बंद करवाया है। यह कार्रवाई सोमवार को फिर शुरू होगी। शुक्रवार को 340 झोलाछाप की दुकानें सील हुई थीं।

सबसे ज्यादा उरला, भनपुरी में कारोबार

सबसे ज्यादा झोलाछाप के क्लीनिक उरला, भनपुरी, टीटाबंध, धरसींवा, सिलतरा, अभनपुर क्षेत्रों में हैं। इनमें एलोपैथी की दवाओं देने के साथ इंजेक्शन, ड्रिप चढ़ाना, छोटी सर्जरी तक शामिल है। कई संचालकों ने तो किराए पर एमडी, एमएस डिग्रीवालों को रखा है। घंटे के हिसाब या मरीज पहुंचनें पर भुगतान होता है।

पैरामेडिकल चला रहा था डाग्नोसिस्टक सेंटर, लैब

भनपुरी में लक्ष्मी एक्स-रे एंड डाग्नोस्टिक सेंटर का संचालक एक पैरामेडिकल रेडियोग्राफर है, जिसने एमडी रेडियो डाग्नोस्टिक को बोर्ड लगा रहा था। एक्सरे करता है, पैथोलॉजी लैब में जांच भी। इस सेंटर को सीलबंद कर दिया गया है।

सीएमएचओ,कलेक्टोरेट घेरा

कार्रवाई से नाराज 200 से अधिक झोलाछाप कथित डॉक्टर्स दोपहर 12 बजे सीएमएचओ कार्यालय में इक्ट्ठे हुए। सीएमएचओ से मुलाकात नहीं हुई तो कलेक्टोरेट का घेराव कर दिया। डिप्टी कलेक्टर विभोर अग्रवाल का कहना है कि मुझसे किसी ने मुलाकात नहीं की है, कार्रवाई जारी रहेगी।

एक्ट के तहत कार्रवाई कर रहे हैं

शनिवार को 292 झोलाछाप के विरुद्ध कार्रवाई हुई है। वैसे भी हम किसी व्यक्ति पर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं, दुकानें बंद करवा रहे हैं, जो नर्सिंग होम एक्ट के तहत है। मरीजों की जान से समझौता नहीं कर सकते हैं।

-डॉ. केएस शांडिल्य, सीएमएचओ रायपुर

18प्रशांत गुप्ता...01

समय रात 8 बजकर 20 मिनट पर

सं. आरकेडी

थथथथ

इीर्ॅािि घीाचैनज थ

ऽऽऽऽ

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.