'राजा फोकलवा' ने की भ्रष्ट राजनीति पर चोटUpdated: Sat, 22 Aug 2015 10:53 PM (IST)

छत्तीसगढ़ की लोक विविधता एवं नाट्य शैली से सजा हास्य-व्यंग्य 'राजा फोकलवा' ने शनिवार की रात संस्कृति विभाग के मुक्ताकाश मंच पर वर्तमान भ्रष्ट राजनीति पर करारी चोट की। इसमें राजा

रायपुर। छत्तीसगढ़ की लोक विविधता एवं नाट्य शैली से सजा हास्य-व्यंग्य 'राजा फोकलवा' ने शनिवार की रात संस्कृति विभाग के मुक्ताकाश मंच पर वर्तमान भ्रष्ट राजनीति पर करारी चोट की। इसमें राजा (सुदामा शर्मा) ने स्वच्छ राजनीति के बीच प्रजा के हितों को देखते हुए जहां शासन किया वहीं बेटी के प्रेम एवं जिद के आगे अनपढ़ फोकलवा (हेमंत वैष्णव) से राजकुमारी (आरती ठाकुर) की शादी करवा कर फंस गया। फोकलवा राजा के यहां घर जमाई बनने के बाद राज्य के उद्योगपतियों, साहूकारों से मिलकर राजा की हत्या करवाकर खुद राजा बनता है।

मुक्ताकाश मंच के दर्शक दीर्घा में बैठे लोगों को मनोरंजक माहौल में राजा फोकलवा की 100 वीं प्रस्तुति को दिल से सराहा। वहीं चित्रोत्तपला लोककला रायपुर से जुड़े कलाकारों ने नाट्य मंचन को यादगार बनाया। राकेश तिवारी द्वारा लिखित एवं निर्देशित एवं संगीतबद्ध किए गए नाटक राजा फोकलवा की शुरुआत छत्तीसगढ़ी संवादों से हुई। नाचा के दौर को संजोए कहानी भरथरी, पंडवानी, चदैनी, पंथी, कर्मा,ददरिया और बिहाव गीत से आगे बढ़ा। नाटक ने लोक मान्यता के तहत अच्छे कर्म का फल अच्छा और बुरे कर्म का फल बुरा होने की सीख दी। नाटक में फोकलवा गांव का एक भोला-भाला युवक है, जो विधवा मां के साथ रहता है। एक नाटकीय घटना में फोकलवा राजा बन जाता है।

कुसंगति में पड़कर वह राज्य के हितैषी मंत्री एवं सेनापति को हटा देता है। विदेशी उद्योगपतियों को राज्य में कारोबार का मौका देकर बाद में खुद आराम तलब जीवन जीने लगता है। नाटक का अंत भी बेहद रोचक है। इसमें फोकलवा अपनी पत्नी के लिए राक्षस-राक्षसी से छीने हुए कंगन और खुद के लिए लाए गए सोने का ताबिज पहनता है। इसे पहनते ही फोकलवा को राजा बनते समय ली गई शपथ याद आती है, कि अगर मैं जनता के साथ छल करूं, उनका अहित करूं तो राक्षस बन जाऊं। इस अंतिम स्मरण के साथ ही राजा फोकलवा और उसके पाप में सहभागी रानी दोनों राक्षस बन जाते हैं। इस नाटक को लक्ष्मी पाण्डेय, हेमलाल पटेल, मनोज मिश्रा, गणेश पंडित, उत्तम ठाकुर, दीपक ताम्रकार, सरिता पाठक, मोहन साहू ने अपनी अदाकारी से रोचक बनाया।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.