रायपुर में बिक रही है मध्यप्रदेश की शराब, 50 पेटियां जब्तUpdated: Mon, 17 Jul 2017 07:58 PM (IST)

देहात के रास्तों से भी शराब के अवैध कारोबार करने का पता चला है।

रायपुर। शहर के अंदर एक शराब दुकान में मध्यप्रदेश की शराब बेचे जाने के खुलासे के बाद देहात के रास्तों से भी शराब के अवैध कारोबार करने का पता चला है। खरोरा पुलिस की पिछले पंद्रह दिनों की चेकिंग में मध्यप्रदेश की लगभग 50 पेटी शराब बरामद हुई है। तस्कर सुनसान रास्तों में घिरे। पुलिस पहुंच पाती कि मौके पर गाड़ी समेत स्टॉक छोड़कर वे फरार हो गए।

बरामद शराब में छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से जारी होलोग्राम नहीं मिला। ऐसे में मध्यप्रदेश के रास्ते से शराब लाकर उसके अवैध कारोबार की आशंका बढ़ी है। 14 जुलाई को पुरानी बस्ती इलाके में एक शराब दुकान में जांच करते वक्त बाहर से शराब लाकर उसके अवैध कारोबार करने के बारे में पता चला था।

शराब दुकान के संचालक व मैनेजर को नोटिस जारी कर आबकारी विभाग ने कार्रवाई की। अब खरोरा इलाके में धरपकड़ के दौरान बाहर की शराब जब्त हो रही है। अफसरों के बताए अनुसार संदेह है कि मध्यप्रदेश का गिरोह तस्करों के माध्यम से सक्रिय है। पुलिस स्टॉक जब्ती कर संदिग्धों का पता लगा रही। अब तक की कार्रवाई में केवल खरोरा थाने में ही दर्जनभर प्रकरण बनाए जा चुके हैं।

ऐसे हो रहा खेल

बाहर से तस्कर शराब वाहनों में ला रहे हैं। इसे गांवों में छिपाकर उसे बेचा जा रहा है। पुरानी बस्ती की शराब दुकान में मिली शराब में बिना होलोग्राम लगाए ही बोतलें बेची जा रही थीं। ऐसा संभव है कि गिरोह बाहर से पहुंचे शराब का रैपर बदलकर झांसा दे रहे हैं। पुरानी बस्ती की दुकान से बरामद शराब की बोतलों में नकली ढक्कन तक मिले थे। बाहरी राज्य से वहां की शराब लाकर रायपुर में बेचने का खुलासा हुआ।

जॉब प्लेसमेंट एजेंसी को नोटिस

पुरानी बस्ती में आबकारी विभाग ने शराब दुकान के दो कर्मचारी व सुपरवाइजर को नियमांे का उल्लंघन करने के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा। आबकारी अधिनियम 34 के तहत कार्रवाई की। कर्मचारियों के कारोबार में शामिल होने पर विभाग ने कर्मचारी नियुक्त करने वाली जॉब प्लेसमेंट एजेंसी के नाम पर नोटिस जारी किया। अगर उनकी भी संलिप्तता रही आगे कार्रवाई होगी।

पुराने कोचियों पर कार्रवाई 150 के पार

कोचियाबंदी के फरमान जारी होने के बाद से पुलिस ने शहर के पुराने कोचियों पर सख्ती बरती है। आंकड़ों के हिसाब से अब तक 150 सौ से ज्यादा प्रकरणों में कार्रवाई हो चुकी है। बता दें कि पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए 22 पुराने कोचियों के नाम जिला बदर की कार्रवाई के लिए भी पेश हो चुके हैं। अब संभावना है कि बाहर से आए लोग अवैध कारोबार कर रहे हैं।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.