यहां बेटी पैदा होने पर माता-पिता को अस्पताल देता है गिफ्टUpdated: Thu, 12 Oct 2017 07:09 AM (IST)

गर्भवती माताओं का पंजीयन करने के साथ ही वहां संस्थागत प्रसव को लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है।

रायपुर। मुख्य सचिव विवेक ढांड ने बुधवार को मंत्रालय में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना के राज्य स्तरीय कार्यदल की बैठक ली। बैठक में उन्होंने कहा कि रायगढ़ प्रदेश का अकेला जिला है जहां के सरकारी अस्पतालों में बेटी के पैदा होने पर माता-पिता को ग्रीटिंग कार्ड देकर सम्मानित किया जाता है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली योजना बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ को रायगढ़ जिले में अच्छी सफलता मिल रही है। बैठक में इस अभियान के रायगढ़ मॉडल की सभी अफसरों ने प्रशंसा की।

ढांड ने कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिए प्रदेश के सोनाग्राफी सेंटरों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश अफसरों को दिए। उन्होंने कहा यह योजना वर्तमान में केवल रायगढ़ जिले में ही चल रही है लेकिन हमें पूरे प्रदेश के 660 पंजीकृत सोनोग्राफी सेंटरों पर नजर रखने की जरूरत है।

मुख्य सचिव ने इस बात पर खुशी जताई कि रायगढ़ जिले के सरकारी अस्पतालों में संस्थागत प्रसव की संख्या 92 से बढ़कर 97 प्रतिशत हो गई है। गर्भवती माताओं का पंजीयन करने के साथ ही वहां संस्थागत प्रसव को लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है।

बेटी के पैदा होने पर ग्रीटिंग कार्ड देने से जनजागरण में मदद मिल रही है। इस काम के लिए रायगढ़ जिले को राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला है। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने बताया कि देशभर में न्यूनतम शिशु लिंग अनुपात के आधार पर जिन सौ जिलों को इस योजना में शामिल किया गया था उनमें रायगढ़ भी शामिल है।

रायगढ़ के बाद अब प्रदेश के बालोद, जांजगीर चांपा, जशपुर, कबीरधाम और नारायणपुर जिलों में भी बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना की तर्ज पर काम करने को कहा गया है।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.