चिकित्सा अधिकारी के 400 पद खाली, मंत्री ने स्वीकारा- राज्य में डॉक्टरों की कमीUpdated: Tue, 21 Mar 2017 03:53 AM (IST)

- चंद्राकर ने बताया- पदों को भरने की लगातार चल रही कोशिश रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि राज्य के सरकारी अस्पतालों में बड़े पैमाने पर डॉक्टरों के पद खाली हैं। स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने सोमवार को विधानसभा में पद रिक्त होने की बात स्वीकार की। उन्होंने बताया कि डॉक्टरों की नियुक्ति की पूरी कोशिश की जा रही है। हर तीसरे शनिवार को वॉक इन इंट

- चंद्राकर ने बताया- पदों को भरने की लगातार चल रही कोशिश

रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

राज्य के सरकारी अस्पतालों में बड़े पैमाने पर डॉक्टरों के पद खाली हैं। स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने सोमवार को विधानसभा में पद रिक्त होने की बात स्वीकार की। उन्होंने बताया कि डॉक्टरों की नियुक्ति की पूरी कोशिश की जा रही है। हर तीसरे शनिवार को वॉक इन इंटरव्यू किया जा रहा है। पीएससी के जरिए भी पद भरने की कोशिश हो रही है। साथ ही संविदा और तदर्थ में भी डॉक्टर रखे जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इन प्रयासों से जो भी डॉक्टर मिल रहे हैं, उन्हें प्राथमिकता से बस्तर और सरगुजा संभाग के अस्पतालों में भेजा जा रहा है।

विधायक अरुण वोरा के एक सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री चंद्राकर ने बताया कि राज्य में चिकित्सा अधिकारी के 1873 स्वीकृत पदों में से 410 खाली हैं। काम कर रहे चिकित्सा अधिकारियों में 1277 नियमित, 102 तदर्थ और 84 संविदा हैं। सबसे ज्यादा डॉक्टरों की कमी बस्तर संभाग में है। वहां 383 स्वीकृत पदों में से 216 पद रिक्त हैं। इसी तरह डॉ. खिलावन साहू ने सक्ती विधानसभा क्षेत्र के अस्पतालों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में डॉक्टरों की कमी पर सवाल किया। विधायक खेलसाय सिंह के आग्रह पर स्वास्थ्य मंत्री ने सूरजपुर मेडिकल बोर्ड बहाल करने का आश्वासन दिया।

आरटीएफ

एसएनजे 20 मार्च 02

समय- 6.10

सं. आरकेडी

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.