अवैध संबंध बनाने की जिद में हत्या, चाकुओं से किए 13 वारUpdated: Fri, 11 Aug 2017 07:57 PM (IST)

अवैध संबंध बनाने की जिद में हिस्ट्रीशीटर संतोष दुबे की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई।

रायपुर। ओसीएम चौक पर गुरूवार-शुक्रवार की रात बड़ी वारदात हुई। अवैध संबंध बनाने की जिद में हिस्ट्रीशीटर संतोष दुबे की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। झांसे से उसे तीसरी मंजिल पर ले जाकर उस पर ताबड़तोड़ तेरह वार किए गए। खून की धार बहती रही।

जान बचाने के लिए हिस्ट्रीशीटर शोर मचाता रहा पर रात में कोई भी उसकी मदद को नहीं आया। आरोपी भी उस पर तब तक वार करते रहे जब तक उसने दम नहीं तोड़ दिया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और महिला व उसके प्रेमी समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

मुख्य आरोपी मोनू सचदेवा फरार है।सिटी कोतवाली टीआई विरेंद्र चतुर्वेदी ने बताया कि कालीबाड़ी चौक निवासी निवासी हिस्ट्रीशीटर संतोष दुबे (35) नशे की हालत मंे ओसीएम चौक पर स्थित पूजा के घर पहुंचा।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पूजा शराब, गांजा समेत अन्य नशीली वस्तुएं बेचने के कारोबार में लिप्त मोनिका सचदेवा की बहन है। वह कुछ दिन पहले ही जेल से छूटी है। गुरूवार की रात 11.30 बजे नशे की हालत में संतोष ने पूजा से मोबाइल पर लंबी बातचीत की।

बातचीत के दौरान संतोष ने पूजा द्वारा इन दिनों कन्नाी काटने पर एतराज जताते हुए कहा कि तुम किसी और के साथ रहो, यह उसे मंजूर नहीं है। इसके बाद वह अपने दोस्त विद्यानगर, बैरनबाजार के गुलशन नायक(38) के साथ बाइक से पूजा के ओसीएम चौक के पास स्थित घर में पहुंच गया।

वहां पर पूजा का भाई मोनू उर्फ भावेश सचदेव(23), बैजनाथपारा के राजा बैझर(30) और पेंशनबाड़ा के रंजीत उर्फ मोंटू स्वामी(40) से संतोष का विवाद हो गया। विवाद के दौरान ही मोनू ने चाकू से संतोष दुबे पर वार किया।

अपनी जान बचाने के लिए संतोष इस मकान की तीसरी मंजिल की ओर भागा, मोनू व उसके साथ्ाियों ने उसका पीछा किया। तीसरी मंजिल पर उस पर चाकुओं से फिर वार किए।

पुलिस की मानें तो मोनू व उसके साथियों ने संतोष पर तेरह वार किए, जिससे मौके पर ही उसने दम तोड़ दिया।पुलिस ने बताया कि हत्या के मामले में पूजा,उसके प्रेमी राजा तथा मोंटू स्वामी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि मुख्य आरोपी मोनू सचदेवा अभी फरार है।

पुलिस की लापरवाही उजागर

पूरे घटनाक्रम में पुलिस की लापरवाही भी खुलकर सामने आई है। पुलिस को मृतक और आरोपियों के बीच वर्चस्व की लड़ाई को लेकर खूनी संघर्ष होने की खबर थी लेकिन समय रहते कोई एक्शन नहीं लिया।

हत्या के पीछे अवैध संबंध्ा व वर्चस्व जमाने का मामला भी पुलिस के संज्ञान मंे पूर्व मंे आ चुका था, इसके बाद भी पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.