अब रायगढ़ में महिलाएं चलाएंगी शासकीय वाहनUpdated: Sun, 16 Apr 2017 04:05 AM (IST)

कलेक्टर कार्यालय में अब महिला शासकीय वाहन चलाएंगी।

रायगढ़, शमशाद अहमद। कलेक्टर कार्यालय में अब महिला शासकीय वाहन चलाएंगी। यदि ऐसा हो जाता है कि यह प्रदेश का पहला जिला होगा जहां महिला शासकीय वाहन चलाएंगी। कलेक्टारेट में तीन वाहन चालक के रिक्त पदों पर भर्ती के लिए दो महिलाएं भी आवेदन जमा किया है जिसका स्क्रूटनी पश्चात दावा आपत्ति के लिए प्रशासन द्वारा सूची भी जारी कर दी गई है। अब इनका कौशल परीक्षा होना बाकि है यदि कौशल परीक्षा में ये महिलाएं सफल हो जाती है तो जिले के शासकीय वाहन चालक के रूप में एक महिला ड्राइवर मिल जाएगी।

रायगढ़ जिले में जल्द ही प्रदेश की महिला शासकीय वाहन चालक मिलने वाला है। दर असल प्रशासन द्वारा कलेक्टोरेट कार्यालय में वाहन चालक के तीन रिक्त पदों के लिए आवेदन पत्र मंगाया था। जिसमें एक पद महिला आरक्षण के लिए रखा गया है। शासकीय वाहन चालक बनने के लिए जिले से दो महिलाओं ने आवेदन पत्र जमा किया गया था। आवेदन पत्र प्राप्त होने के बाद प्रशासन द्वारा स्कूटनी पश्चात दावा आपत्ति के लिए कार्यालय परिसर में सूची भी जारी कर दी गई है। माना जा रहा है कि जल्द ही जिले को प्रदेश की पहली शासकीय महिला वाहन चालक मिल जाएगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार 3 पद के लिए प्राप्त आवेदनों में से एक के अनुपात में 15 उम्मीदवारों को कौशल परीक्षा के लिए बुलाया है। हालांकि दो ही महिलाओं ने अपना आवेदन जमा किया है और दो में से एक महिला का चयन निश्चित माना जा रहा है। खास बात यह है कि इन दोनों महिलाओं के पास वाहन चलाने का बकायदा लायसेंस प्राप्त है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को बढ़ावा

दर असल जिले की कलेक्टर जब से यहां पदस्थ हुई हैं और उनके द्वारा शुरु की गई मुहिम की बदौलत आज जिले में बेटियों के लिंगानुपात में काफी हद तक सुधार आया है। कलेक्टर द्वारा जिले में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को लेकर काफी सुर्खियां बटोरी हैं। माना जा रहा है कि इसी के तहत कलेक्टर द्वारा बेटियों को इस क्षेत्र में भी आगे बढ़ाने की मंशा से एक पद महिला आरक्षण रखा। यही वजह है कि जिले के दो बेटियों ने शासकीय वाहन चालक बनने रुचि दिखाते हुए आवेदन किया। प्रशासनिक हलकों में शासकीय वाहन चालक में महिलाओं को बढ़ावा देने की इस पहल को बेटियों को बढ़ावा देने की मंशा से की गई पहल बताया जा रहा है।

तो प्रदेश की पहली शासकीय महिला चालक बनेगी

हालाकि इस मामले को लेकर अधिकारियों का कहना है कि अभी दावा आपत्ति सूची जारी की गई अभी सही मायनों में कौशल परीक्षण बाकि है। कौशल परीक्षण के बाद ही तय होगा कि ये महिलाएं वाहन चालक बनने के लायक हैं या नहीं। फिलहाल वाहन चालक के लिए एक पद के लिए दो महिलाओं ने ही आवेदन किया है इससे इनके बीच प्रतिस्पर्धा भी अधिक नहीं होगी माना जा रहा है कि दो महिलाओं में से एक चयन निश्चित है और इसके बाद इनमें एक महिला प्रदेश की पहली शासकीय महिला वाहन चालक बन जाएगी।

अभी अभ्यर्थियों का कौशल परीक्षा होना बाकि है कौशल परीक्षा के बाद ही चयन की प्रक्रिया होगी।

प्रियंका महोबिया, एडीएम रायगढ़

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.