पूरा गांव बना रहा था शराब, चढ़ी थी 150 हांडीUpdated: Sat, 15 Apr 2017 04:00 AM (IST)

पुलिस ने एक बड़े शराब के अवैध अड्डे का भंडाफोड़ किया है। ग्राम चीतापाली के नाला के निकट बड़े पैमाने पर कच्ची शराब बनाई जा रही थी।

कोरबा। पुलिस ने एक बड़े शराब के अवैध अड्डे का भंडाफोड़ किया है। ग्राम चीतापाली के नाला के निकट बड़े पैमाने पर कच्ची शराब बनाई जा रही थी। पुलिस मौके पर पहुंची तो कच्ची शराब की 150 हांडी और 800 महुआ से भरा बोरा मिला। महुए के बोरे को नाले के पानी में डूबोकर सड़ाने के लिए रखा गया था। 40 पुलिसकर्मियों की टीम के साथ शराब के अवैध ठिकाने पर पुलिस ने पूरी सतर्कता के साथ पुलिस दबिश दी, पर एक भी आरोपी नहीं मिले।

शराब दुकानों की बागडोर जब से प्रशासनिक हाथ में आई है, तब से अवैध शराब विक्रेताओं पर लगाम कस गया है। अब इसका सीधा असर ग्रामीण इलाकों में देखने को मिल रहा। बड़े पैमाने पर अवैध रूप से कच्ची शराब बनाई जा रही। उरगा से करीब 15 किलोमीटर दूर चीतापाली गांव में अवैध रूप से कच्ची शराब बनाकर धड़ल्ले से बेचे जाने की सूचना पुलिस को मिल रही थी।

रंगे हाथों आरोपियों को पकड़ने पुलिस लगातार निगरानी की, पर सफलता नहीं मिली। अंततः शुक्रवार को लाव-लश्कर के साथ उरगा पुलिस ने छापामार कार्रवाई की। दरअसल गांव के ज्यादातर लोग इस अवैध कारोबार में लिप्त थे, इसलिए पूरी सुरक्षा के साथ पुलिस मौके पर पहुंची। दर्री थाना के 25 पुलिसकर्मियों के अलावा कोतवाली से 15 शस्त्र जवानों को भी शामिल किया गया था।

आमतौर पर इस तरह के अवैध अड्डों में पुलिस पर कार्रवाई के दौरान हमला किए जाने की आशंका रहती है। पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचे तो नजारा देख दंग रह गए। नाला के किनारे कतार से अवैध शराब की 150 हांडी चढ़ी हुई थी। जहां देखो वहां महुआ पास के बोरे नजर आ रहे थे, लेकिन शराब बनाने वाले एक भी नजर नहीं आए।

अड्डे के चारों तरफ करते हैं रेकी

पुलिस ने 11 अप्रैल की रात से चीतापाली नाला के पास निगरानी शुरू की, पर शराब बनाने वाले नजर नहीं आए। पुलिस रात को ही आरोपियों को दबोचने की योजना बना रखी थी, लेकिन शराब बनाने वाले दिन में अपना काम कर शाम होने से पहले निकल जाया करते थे। इस बीच पुलिस ने दिन में भी आरोपियों को पकड़ने की कोशिश की, पर सफलता नहीं मिली। नाला बस्ती से काफी अंदर है, पुलिस जब तक वहां पहुंचती बस्ती के बाहर चारों तरफ निगरानी कर रहे ग्रामीण इसकी सूचना मोबाइल से दे देते थे और पुलिस के पहुंचने से पहले मौके से आरोपी फरार हो जाते थे।

मौके पर ही जेसीबी से किया गया नष्ट

पूरी कार्रवाई के दौरान पुलिस ने करीब एक ट्रक अवैध शराब बनाने की सामाग्री जब्त की। मौके पर ही जेसीबी से नष्ट करने की वैधानिक कार्रवाई की गई। खास बात यह रही कि चार दिन तक निगरानी करने के बाद भी एक भी आरोपी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सका। लिहाजा कोई मामला भी पुलिस नहीं बना सकी।

कोचियों पर लगाम के बाद कच्ची की डिमांड

ग्रामीणों ने लोक सुराज के दौरान अवैध रूप से चीतापाली में शराब बनाए जाने की शिकायत की थी। दरअसल अवैध रूप से पहले भी यहां कच्ची शराब बनाई जा रही थी, लेकिन जब से सरकारी तौर पर शराब दुकानों का संचालन शुरू हुआ है, उसके बाद गांव में कोचियों का शराब का अवैध अड्डा बंद हो गया। इसके साथ ही कच्ची शराब की डिमांड बढ़ गई। पैसे कमाने की लालच में गांव के ज्यादातर लोग इस गोरखधंधे में लिप्त हो गए।

आधा दर्जन गांव में हो रहा था सप्लाई

60 रुपए के हिसाब से 750 मिली लीटर कच्ची शराब चीतापाली से गांव-गांव भेजा जा रहा था। चीतापाली से लगे करीब आधा दर्जन से अधिक गांव में अवैध रूप से कच्ची शराब की सप्लाई चल रही थी। अधिक नशा के लिए बेशरम के जड़ का भी उपयोग शराब बनाने के लिए किया जा रहा था। जड़ की मात्रा अधिक होने पर शराब के जहरीले होने का खतरा रहता है। पहले भी जहरीले शराब के सेवन से मौत की घटनाएं हो चुकी है।

फत्तेगंज में भी 3 लीटर जब्त

करतला थानांतर्गत ग्राम फत्तेगंज निवासी फिरतूराम कंवर पिता रोदूसिंह कंवर नामक युवक अपने घर में हाथ भट्ठी महुए की कच्ची शराब बनाकर बिक्री कर रहा था। जिसे मुखबिर की सूचना पर करतला पुलिस ने रंगे हाथ 3 लीटर कच्ची शराब व 100 रुपए बिक्री रकम सहित पकड़ा है। इसी तरह पुलिस ने नवाडीह सेंद्रीपाली निवासी श्यामलाल कंवर पिता झामलाल कंवर ग्रामीण से 3 लीटर कच्ची शराब जब्त की है।

गांव में शराब की वजह से माहौल बिगड़ रहा था। इससे परेशान ग्रामीणों ने शिकायत की थी। आरोपियों को रंगेहाथों पकड़ने निगहबानी की गई, लेकिन छापा से पहले ही आरोपी सतर्क हो गए, इसलिए मामला नहीं बनाया जा सका।

- एमएम मिंज, प्रभारी, उरगा थाना

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.