प्रेमिका ने पति के साथ मिलकर एक किमी तक घसीटा था प्रेमी का शवUpdated: Fri, 11 Aug 2017 04:03 AM (IST)

पत्नी के प्रेमी को ठिकाने लगाने के लिए पति ने पत्नी को ही हथियार बनाया और अपने चचेरे साला को भी अपने साथ शामिल कर लिया।

कोरबा। पत्नी के प्रेमी को ठिकाने लगाने के लिए पति ने पत्नी को ही हथियार बनाया और अपने चचेरे साला को भी अपने साथ शामिल कर लिया। रात को गांव के सूने स्थान पर प्रेमिका का बुलावा भेजकर बुला लिया गया और गमछे से गला घोंटकर मौत के घाट उतारने के बाद शव को करीब एक किलोमीटर दूर घसीटकर ले गए और बालू के नीचे दबा दिए।

करतला थानांतर्गत आने वाला ग्राम चोरभट्ठी में निवासरत मोहितराम राठिया (29) की लाश गांव में ही दवननाला के पास रेत में दबी अवस्था में मिली थी। मृतक के परिजनों ने पुलिस को बताया था कि 8 अगस्त की रात करीब 8 बजे गांव में रहने वाला दीनदयाल राठिया पिता हरिराम राठिया (18) घर आया था, उस वक्त मोहितराम खेत से थककर लौटा था, इसलिए सो रहा था।

मोबाइल खरीदने जाने की बात कह दीनदयाल उसे नींद से उठाकर अपने साथ ले गया। उसके बाद वह वापस नहीं लौटा। दूसरे दिन 9 अगस्त को लाश मिलने के बाद से पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही थी।

संदेही दीनदयाल को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने हत्या का अपराध कबूल करते हुए पूरी कहानी बयां कर दी। दरअसल मोहितराम का प्रेम संबंध दीनदयाल की चचेरी बहन अनीता राठिया (19) से था। अनीता का विवाह नोनदरहा निवासी नरेंद्र राठिया (21) से हो गया, इसके बाद भी दोनों का मिलना-जुलना जारी रहा।

मोहितराम अक्सर मोबाइल पर अनीता से बात किया करता था। इसकी जानकारी नरेंद्र को लग गई और इसे लेकर अनीता के साथ उसका विवाद होने लगा। इस बात की जानकारी उसने दीनदयाल को दी और आनन-फानन में मोहितराम की हत्या करने की योजना बना ली।

बताया जा रहा है कि 8 अगस्त को चोरभट्ठी पहुंच गए और दीनदयाल को मोहितराम के घर भेजकर बुलवा लिया। उसके परिजनों के सामने दीनदयाल ने मोबाइल खरीदने का बहाना किया और जैसे ही वह घर से बाहर आया तो यह कहकर उसे गुमराह किया गया कि अनीता ने मिलने के लिए गांव के इमली पेड़ के पास बुलाया है।

पहले से ही वहां अनीता के साथ उसका पति नरेंद्र मौजूद था। यह देख मोहितराम हड़बड़ा गया और वापस लौटने लगा, पर नरेंद्र और दीनदयाल ने उसे दबोचकर उसके साथ मारपीट करने लगे।

इस बीच गमछे से गला घोटकर उसकी हत्या कर दिए। शव को घसीटकर एक किलोमीटर दूर ले गए और बालू के ढेर के नीचे दबा दिए। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 302, 201, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर गिरफ्तार कर लिया है।

लाश ठिकाने लगाने में साथ थी अनीता

पति नरेंद्र के दबाव में अनीता भी आ गई थी और यही वजह है कि मोहितराम की हत्या के बाद लाश को ठिकाने लगाने में उसने भी साथ दिया। पुलिस ने जांच पड़ताल के दौरान अनीता राठिया के पास गमछा बरामद किया है, जिसका उपयोग गला घोंटने के लिए किया गया था।

पिता ने जताया था जमीन विवाद का संदेह

मोहितराम का शव मिलने के बाद उसके पिता सुलेश्वर सिंह राठिया ने पुलिस को जमीन विवाद की वजह से हत्या किए जाने का अंदेशा जताया था। उसने दीनदयाल के अलावा गांव में ही रहने वाले अमृत राठिया का भी नाम अपनी शिकायत में दर्ज कराया।

पुलिस को उसने जानकारी दी थी कि तीन भाइयों में उसके एक भाई की केवल लड़की है। इस वजह से जमीन के कब्जे को लेकर अमृत राठिया ने जान से मारने की धमकी दी थी। मामले का खुलासा हुआ तो हत्या की वजह जमीन विवाद नहीं बल्कि अवैध संबंध निकला।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.