कु एं में गिरी मादा हाथीUpdated: Mon, 27 Jan 2014 09:03 PM (IST)

जशपुरनगर/बगीचा (निप्र) । भोजन और पानी की तलाश में निकली जंगली हाथिनी कुएं में जा गिरी। हाथिनी को वन विभाग के अमले ने घंटो मशक्कत के बाद जेसीबी की सहायता से बाहर निकाला। कुएं से बाहर निकाले जाने के दौरान हाथिनी घायल हो गई। घटना बगीचा थाना क्षेत्र के ग्राम बेतरा की है। यहां 25-26 जनवरी की रात एक गर्भवती हाथिनी कुंए में जा गिरी। कु

जशपुरनगर/बगीचा (निप्र) । भोजन और पानी की तलाश में निकली जंगली हाथिनी कुएं में जा गिरी। हाथिनी को वन विभाग के अमले ने घंटो मशक्कत के बाद जेसीबी की सहायता से बाहर निकाला।

कुएं से बाहर निकाले जाने के दौरान हाथिनी घायल हो गई।

घटना बगीचा थाना क्षेत्र के ग्राम बेतरा की है। यहां 25-26 जनवरी की रात एक गर्भवती हाथिनी कुंए में जा गिरी। कुएं में गिरने से हाथिनी जोर जोर से चिंघाडने लगी। इससे ग्रामीण दहशत में आ गए और बाहर निकल कर देखा । यहां 30- 35 हाथियों ने एक खेत में कुएं को घेर रखा था। इसी कुंए में एक हाथिनी गिरी थी। दल में शामिल हाथी कुएं में गिरी हाथिनी को निकालने का प्रयास कर रहे थे और असफल होने पर चिंघाड़ रहे थे। ग्रामीणों ने घटना की जानकारी वन विभाग को दी। इस पर 26 जनवरी की सुबह तकरीबन 4 बजे वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी घटना स्थल पहुंचे। यहां से हाथियों का झुंड जंगल की ओर लौट चुका था। वन अमले ने हाथिनी को कुएं से बाहर निकालने दो जेसीबी मशीन बगीचा से मंगवाई। जेसीबी के आने पर कुएं के दोनों ओर गड्ढा खोदने का काम शुरू किया गया। इसके बाद गड्ढे से हाथिनी को कुएं से बाहर निकाला जा सका। बाहर निकलते ही हाथिनी जंगल की ओर भाग निकली।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जेसीबी की सहायता से गड्डा खोदे जाने के दौरान हाथिनी को शरीर के कई हिस्सों में चोटे भी आई। हाथिनी के शरीर के कई हिस्सों से खून का रिसाव हो रहा था। कुंए से बाहर आते ही हथिनी ने स्थल के नजदीक स्थित शासकीय विद्यालय की बाउंड्री वाल को ध्वस्त कर दिया। इसके बाद हाथिनी ने गड्ढा खोदन में लगे जेसीबी पर हमला कर दिया। इसी दौरान कुत्ते के भोंकने पर वह जंगल में चली गई। हाथी के जंगल में घुस जाने के बाद ग्रामीणों ने राहत की सांस ली।

सहमे ग्रामीण

जंगली हाथियों का यह बड़ा दल गत कुछ दिनों से बेतरा और इसके आसपास घुम रहा है। कुंए में गिर कर घायल हुए जंगली हाथी के पुनः गांव में हमले की आशंका से ग्रामीण सहमे हुए हैं। ग्रामीणों को आशंका है कि घायल हाथी यदि अपने दल से बिछुड़ गया तो और भी अधिक आक्रामक हो सकता है। ग्रामीणों ने वन विभाग और प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई है।

कुत्ते ने बचाई जेसीबी मालिक की जान

कुएं में गिर कर घायल हाथी बाहर निकलते ही आक्रामक हो गया और रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे एक जेसीबी पर हमला कर दिया। जेसीबी को मालिक अजय जायसवाल ऑपरेट कर रहा था। हाथी द्वारा हमला किए जाने पर वह चुपचाप जेसीबी के अंदर में ही बैठा रहा। इसी बीच एक कुत्ता हाथी को भौंकने लगा इससे हाथी का ध्यान भटक गया और कुत्ते पर हमला कर दिया। इसके बाद हाथी कुत्ते के पीछे पीछे जंगल में चला गया।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.