बंद के दौरान नक्सली उत्पात, वाहनों को किया आग के हवालेUpdated: Mon, 27 Feb 2017 07:58 PM (IST)

नक्सलियों ने बस्तर के सुकमा, दंतेवाड़ा सहित कांकेर सीमा पर महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में जमकर उत्पात मचाया।

जगदलपुर/सुकमा/दंतेवाड़ा/कांकेर। 27 फरवरी को भारत बंद के आह्वान के एक दिन पहले रविवार को नक्सलियों ने बस्तर के सुकमा, दंतेवाड़ा सहित कांकेर सीमा पर महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में जमकर उत्पात मचाया। सोमवार को दहशत के चलते अंदरूनी इलाकों में यात्री वाहन नहीं चले।

सुकमा जिले के कूकानार थाना क्षेत्र के ग्राम पालेम में 2 दसपहिया ट्रक, ग्राम परचेली में निर्माण कार्य में लगी पिकअप, दंतेवाड़ा जिले के कटेकल्याण में सड़क निर्माण में लगी मिक्सर मशीन, दंतेवाड़ा जिले के ही गाटम में यात्री बस को आग लगा दी। दोरनापाल क्षेत्र के पेंटा व बुरजी के बीच ब्लास्ट कर पुलिया उड़ा दिया।

एक ट्रक विजयवाड़ा से लोहा लेकर आ रहा था। वहीं दूसरा ट्रक धमतरी से कोंटा जा रहा था, जिसमें नारियल लदा था। पुलिस प्रताड़ना के विरोध व बस्तर से अर्द्धसैनिक बल की वापसी को लेकर बंद का आह्वान किया गया था। नक्सलियों ने जगह-जगह बैनर व पोस्टर लगाकर पुलिस का विरोध करने की अपील की है।

एस्सार की पाइप लाइन की क्षतिग्रस्त

नक्सलियों ने रविवार शाम साढ़े छह बजे सुकमा जिले के गादीरास थाना क्षेत्र के ग्राम परिया के समीप एस्सार की स्लरी पाइप लाइन को क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके चलते एस्सार को सुकमा स्थित अपना पंप हाउस और किरंदुल स्थित बेनीफिकेशन प्लांट को अस्थाई रूप से बंद करना पड़ा है।

गढ़चिरौली में डिपो में लगाई आग

वहीं दूसरी ओर नक्सलियों ने कांकेर जिले के सीमा से लगे महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में सिरोंचा तहसील के अंतर्गत रामपल्ली स्थित वन विभाग के डिपो में रविवार को आग लगा दी। बताया जाता है कि करीब 40 से 50 की संख्या में नक्सली पहुंचे थे। सूचना पर जैसे ही पुलिस अमला पहुंचा, नक्सली भाग गए। वन विभाग के अनुसान इस घटना से करीब 3 करोड़ रुपए की लकड़ी व बांस के जल जाने का अनुमान है। डिपो में सोमवार सुबह भी आग की लपटें उठती रहीं।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.