पति की प्रताड़ना से आहत महिला ने मांगी इच्छा मृत्युUpdated: Sat, 12 Aug 2017 08:51 AM (IST)

एसपी ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि पति- पत्नी का विवाद कुटुम्ब न्यायालय और मकान का प्रकरण हाईकोर्ट में चल रहा है।

धमतरी पति की प्रताड़ना से टूट चुकी एक औरत की पीड़ा पहाड़ सी हो गई है। वह जिंदगी से तौबा करना चाहती है। कहीं से कोई मदद न मिलने पर यह पीड़िता शुक्रवार को महिला आयोग के दफ्तर पर आ पहुंची।

मासूम बच्चे के साथ धरने पर बैठ गई और इच्छा मृत्यु की मांग की। उसने बताया कि पति उस पर अवैध संबंध रखने का आरोप लगाकर यातना देता है। आयोग की अध्यक्ष ने महिला की मदद की पेशकश की है।

पुलिस नहीं कर रही मदद पीड़िता का कहना है कि उसका पति दो पुलिस अफसरों के साथ अवैध संबंध का आरोप लगाकर सताता है। घर से बाहर निकाल दिया है। उन्होंने कहा कि एक पुलिस अधिकारी से अवैध संबंध बताकर पति उसे बदनाम कर रहा है, लेकिन इस मामले में पुलिस अधिकारी न तो कुछ बोल रहे हैं और न ही कार्रवाई कर रहे हैं।

पति ने संपत्ति से भी उसे बेदखल कर दिया है। इस वजह से वह अपने 11 साल के बच्चे के साथ दर-दर की ठोकरें खा रही है। पीड़िता का यह भी कहना था कि कभी उसके पास कभी करोड़ों की संपत्ति हुआ करती थी पर आज कुछ नहीं है।

एक घर पर कोर्ट ने स्टे भी दिया, लेकिन पुलिस ने ताला तोड़कर उस मकान को पति के हवाले कर दिया। एसपी से लेकर कलेक्टर तक के कई चक्कर लगा चुकी है, लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हो रही है।

हो चुकी है सीआईडी जांच

उधर, पीड़िता के पति का कहना है कि उसका फैमिली कोर्ट में तलाक हो चुका है। पहले भी उसकी शिकायत पर सीआईडी जांच हो चुकी है। उसमें भी वह निर्दोष पाया गया। वह जो भी आरोप लगा रही है, आज तक सिद्ध नहीं कर पाई। बताया कि तलाकशुदा उसकी पत्नी अमलासपुरम कालोनी के मकान में रहती है। इस मकान का मामला भी कोर्ट में चल रहा है।

2014 में की थी शिकायत

महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय के अनुसार पीड़िता ने 2014 में शिकायत की थी। उस पर एसपी से प्रतिवेदन मांगा गया था। एसपी ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि पति- पत्नी का विवाद कुटुम्ब न्यायालय और मकान का प्रकरण हाईकोर्ट में चल रहा है।

इसी वजह से आयोग ने इसमें हस्तक्षेप नहीं किया। 2016 में उन्होंने फिर डीजीपी से शिकायत की और उसकी एक प्रति यहां देकर चली गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए उन्हें पुलिस सुरक्षा देने के लिए कहा गया, जो कि दी गई।

बताया कि शुक्रवार को वह कार्यालय के बाहर ही बैठी रही। आयोग का स्टॉफ उसके पास गया लेकिन, वह मिलने भी नहीं आई। बावजूद इसके कानूनी लड़ाई में विधिक सेवा के जरिए मदद की जाएगी।

आयोग के कार्यालय में धरने पर बैठी महिला

बता दें कि राजधानी के जल विहार कॉलोनी में महिला आयोग का दफ्तर है। शुक्रवार को एक महिला अपने मासूम बच्चे के साथ यहां पहुंची और धरने पर बैठ गई। यह पीड़िता धमतरी के प्रतिष्ठित परिवार की बहू बताई गई है।

उसका कहना है कि पति उस पर पुलिस के दो आला अफसरों के साथ अवैध संबंध रखने का आरोप लगाता है। इसी को लेकर लगातार प्रताड़ित कर रहा है। कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। पीड़िता ने कहा कि वह इच्छा मृत्यु चाहती है।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.