किराए पर कमरा लेने आई और लगा गई लाखों की चपतUpdated: Wed, 13 Sep 2017 03:59 AM (IST)

कलेक्टोरेट में उसकी नौकरी लगी है। उनकी बातों को सुनकर दोनों चकमा खा गए और उसे कमरा देने के लिए राजी हो गए।

बिलासपुर। सिविल लाइन क्षेत्र के कुदुदंड स्थित मिलन चौक में चोरी का अजीबोगरीब मामला सामने आया है। शासकीय कर्मी बनकर आई युवती कमरा किराए पर लेने के बहाने महिला व परिवार के अन्य सदस्यों से जान पहचान बना ली।

फिर मौका पाकर पिता-पुत्र को चकमा दिया और आलमारी में रखे तीन लाख रुपए कीमती जेवरों को चोरी कर ले गई। ड्यूटी से शाम को वापस आई महिला को चोरी का पता चला तो उसके होश उड़ गए। इस मामले की रिपोर्ट पर पुलिस अपराध दर्ज कर युवती की पतासाजी कर रही है।

सिविल लाइन पुलिस के अनुसार कुदुदंड मिलन चौक निवासी नीलिमा शर्मा पति सुनील शर्मा (46) कृषि उपज मंडी तोरवा में प्यून के पद पर कार्यरत है। वह अपने मकान में कमरा बनाकर छात्राओं को किराए पर देती है। एक माह पहले प्रेमा टंडन नाम की युवती किराए पर कमरा खोजते हुए उनके घर आई थी।

कमरा किराए पर लेने के लिए सौदा तय करने के बाद वह एक दिन रुकी। फिर वापस चली गई थी। बीते सोमवार दोपहर युवती फिर से उनके घर पहुंची। इस दौरान नीलिमा ड्यूटी पर गई थी। घर में सुनील शर्मा अकेले थे। युवती के आने के बाद उसका बेटा चिन्मयानंद भी स्कूल से घर पहुंच गया।

वह आठवीं कक्षा में पढ़ता है। दोपहर में घर पहुंची युवती ने उन्हें झांसा दिया कि आंटी उन्हें रुपए जमा करने के लिए आधार कार्ड व बैंक खाता लेकर बुलाई है। इस बीच युवती बाहर से आने व नहाने के बहाने कमरे में चली गई। वहीं सुनील व उसके बेटे दूसरे कमरे में युवती के आने का इंतजार करते रहे।

नहाने के बहाने बाथरूम में घुसी युवती ने मौका पाकर ऑलमारी खोल ली और उसमें रखे सोने की हार, रानी हार, आई रिंग, टॉप्स, अमेरिकन डायमंड की अंगूठी, लेडिस अंगूठी सहित करीब 3 लाख रुपए कीमती जेवरों को चोरी कर ली। फिर तैयार होकर वह सुनील व उसके बेटे को ऑटो में बैठाकर तोरवा ले गई।

वहां मेडिकल स्टोर में जाकर नीलिमा को फोन लगाने का झांसा दिया। इस दौरान युवती ने कहा कि उनके ससुर की आंख का विनायक नेत्रालय में ऑपरेशन चल रहा है और आंटी भी वहीं गई है। ऐसा कहकर युवती उन्हें आफिस ले जाने के बजाय विनायक नेत्रालय लेकर आ गई।

यहां पहुंचते ही युवती ने चकमा दिया कि उसकी कार को पुलिस ने पकड़ लिया है, जिसे छुड़ाना जरूरी है। यह कहकर सुनील व उसके बेटे को विनायक नेत्रालय के पास छोड़कर चंपत हो गई। विनायक नेत्रालय में न तो कोई मरीज मिला और न ही नीलिमा मिली। लिहाजा सुनील अपने बेटे को लेकर घर आ गया।

शाम को नीलिमा ड्यूटी खत्म कर अपने घर पहुंची, तब सच्चाई जानकर उसके होश उड़ गए। उन्होंने तत्काल ऑलमारी खोलकर देखा तो उसमें रखे सारे जेवर गायब मिले। घबराई नीलिमा युवती की पतासाजी करती रही। मंगलवार को वह इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कराने सिविल लाइन थाने पहुंची। उसकी रिपोर्ट पर पुलिस ने धारा 380 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। पुलिस युवती की पतासाजी कर रही है।

पिता को बताया एसपी व मां को लेक्चरर

नीलिमा व सुनील शर्मा ने बताया कि युवती एक माह पहले कमरा किराए पर लेने आई थी, तब बताई कि वह दिल्ली से जॉब करने आई है। उसके पिता एसपी हैं और मां लेक्चरर। कलेक्टोरेट में उसकी नौकरी लगी है। उनकी बातों को सुनकर दोनों चकमा खा गए और उसे कमरा देने के लिए राजी हो गए।

भरोसा करना पड़ा महंगा

सोमवार दोपहर युवती सुनील के घर पहुंची तो वह उसकी बातों पर आंख मूंदकर भरोसा कर लिया। दरअसल युवती ने झांसा दिया कि उसके पास मोबाइल नहीं है। वहीं सुनील के घर के मोबाइल को उसकी पत्नी नीलिमा लेकर चली गई थी।

लिहाजा युवती की बातों की तस्दीक करने के लिए उसे मोबाइल भी नहीं मिला। सुनील युवती की बातों पर भरोसा करने के बजाय अपनी पत्नी से संपर्क कर लेता तो युवती की पोल खुल जाती और जेवर चोरी नहीं होती।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.