कुपोषण जांच के लिए बच्चों के साथ भटकती रही माताएंUpdated: Fri, 13 Oct 2017 06:45 AM (IST)

बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि जिला अस्पताल में भर्ती दर्जनभर से ज्यादा बच्चों में कुपोषण के लक्षण मिले हैं। पुष्टि के लिए डॉक्टर ने उन्हें ब्लड जांच कराने पैथोलैब भेजा। माताएं बच्चों को लेकर लैब पहुंचीं तो कर्मचारियों ने जांच किए बिना ही उन्हें वापस भेज दिया। जिला अस्पताल के बच्चा वार्ड में भर्ती लगभग 12 से ज्यादा बच्चों के कुपोषण होने की आशंका है। डॉ

बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिला अस्पताल में भर्ती दर्जनभर से ज्यादा बच्चों में कुपोषण के लक्षण मिले हैं। पुष्टि के लिए डॉक्टर ने उन्हें ब्लड जांच कराने पैथोलैब भेजा। माताएं बच्चों को लेकर लैब पहुंचीं तो कर्मचारियों ने जांच किए बिना ही उन्हें वापस भेज दिया।

जिला अस्पताल के बच्चा वार्ड में भर्ती लगभग 12 से ज्यादा बच्चों के कुपोषण होने की आशंका है। डॉक्टरों ने लक्षण दिखने पर उनके ब्लड की जांच कराने के लिए कहा। गुरुवार को दयालबंद के साथ शहर से लगे गांव की लगभग 12 महिलाएं अपने बच्चों को लेकर ब्लड जांच कराने के लिए जिला अस्पताल के पैथोलैब पहुंची। वहां मौजूद कर्मचारियों ने जांच करने से मना कर दिया। उन्होंने जांच के लिए भेजने वाले डॉक्टर के पास ही जाने के लिए कह दिया। इसी वजह से सुबह से दोपहर तक सभी महिलाएं अपने बच्चों के साथ पैथोलैब का चक्कर काटती रहीं। आखिर ओपीडी बंद होने के बाद इन्हें बिना जांच कराए लौटना पड़ा।

वर्जन

बच्चों की जांच जांच किए बिना पैथोलैब से लौटाने की जानकारी नहीं है। इसे बच्चों की जांच कराई जाएगी।

डॉ. एसएस बाजपेयी

सिविल सर्जन

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.