एटीआर में गौरैया की खोज, दिखते ही कैमरे में कैद होगी तस्वीरUpdated: Mon, 11 Apr 2016 04:00 AM (IST)

बिलासपुर(निप्र)। गौरैया के संरक्षण को लेकर अचानकमार टाइगर रिजर्व प्रबंधन आगे आया है। सबसे पहले अमला यह खोज करेगा कि टाइगर रिजर्व के किस क्षेत्र में गौरैया चहकती है। उसके नजर आते ही तस्वीर ली जाएगी। इसके साथ-साथ ग्रामीणों की मदद से संरक्षण की दिशा में ठोस कदम उठाए जाएंगे। एक समय नन्हीं गौरैया घर व आंगन को चहकाती थी। करीब 10 सालों से यह प

बिलासपुर(निप्र)। गौरैया के संरक्षण को लेकर अचानकमार टाइगर रिजर्व प्रबंधन आगे आया है। सबसे पहले अमला यह खोज करेगा कि टाइगर रिजर्व के किस क्षेत्र में गौरैया चहकती है। उसके नजर आते ही तस्वीर ली जाएगी। इसके साथ-साथ ग्रामीणों की मदद से संरक्षण की दिशा में ठोस कदम उठाए जाएंगे।

एक समय नन्हीं गौरैया घर व आंगन को चहकाती थी। करीब 10 सालों से यह पक्षी शहरी इलाकों से विलुप्त हो गई है। हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में कभी- कभार चहचहाहट सुनाई देती है। उनकी मौजूदगी से यह तो स्पष्ट है कि पक्षी पूरी तरह विलुप्त नहीं हुई है। ' नईदुनिया' ने प्यारी गौरैया के लिए एक पहल की। उन्हें फिर से बुलाने पक्षी प्रेमियों से फोटो, किस्से, पेंटिंग, कविता, कहानियां आमंत्रित की। 'लौट आओ गौरैया' को अब सराहना भी मिल रही है। अचानकमार टाइगर रिजर्व प्रबंधन इनके संरक्षण के लिए आगे आ रहा है। टाइगर रिजर्व में इन पक्षियों की चहचहाहट है। हालांकि प्रबंधन भी इस बात को मान रहा है कि पहले इस क्षेत्र में पक्षियों अधिक संख्या में नजर आती थीं। अब कम ही सुनाई देती हैं। प्रबंधन गौरैया को संरक्षित करने का निर्णय लिया है। सोमवार को सहायक संचालक कार्यालय से सभी रेंज छपरवा, लमनी, अचानकमार व सुरही के परिक्षेत्र अधिकारियों को निर्देश दिया जाएगा कि वह मैदानी अमले से गौरैया की खोज कराएं। जिस रेंज के जिस बीट में गौरैया नजर आती है, उसे बकायदा दर्ज किया जाए। इससे उस क्षेत्र की पहचान हो सकती है, जहां गौरैया पाई जाती है। इसके अलावा पक्षियों की तस्वीर भी कैमरे में कैद होगी। इसके साथ रेंज के अंतर्गत आने वाले गांव के बुजुर्ग ग्रामीणों से चर्चा कर यह जानने की कोशिश करेंगे गौरैया कम क्यों हो गईं। पहले किस स्थान पर बड़ी संख्या में नजर आती थीं। ग्रामीणों से यह सुझाव भी लिया जाएगा कि उनके संरक्षण के लिए क्या किया जा सकता है।

एटीआर में नहीं है मोबाइल टॉवर

गौरैया पक्षी के विलुप्त होने का एक बड़ा कारण मोबाइल टॉवर माना जाता है। मोबाइल के किरणों से इनकी पीढ़ी पर प्रभाव पड़ा। यह परेशानी शहरी क्षेत्रों में हैं। टाइगर रिजर्व में न बिजली है और न ही मोबाइल टॉवर। प्रबंधन यह सोच रहा है कि जब मोबाइल टॉवर ही नहीं है, तो टाइगर रिजर्व में इन पक्षियों की संख्या क्यों कम हो गई। प्रबंधन यह भी जानने की कोशिश करेगा।

'नईदुनिया' की पहल प्रशंसनीय

अचानकमार टाइगर रिजर्व के सहायक संचालक एसके शर्मा का कहना है कि 'लौट आओ गौरैया ' शीर्षक देकर ' नईदुनिया' ने जो पहल की है, वह काफी प्रशंसनीय है। लोग इस पक्षी को भूल चुके थे। नई पीढ़ी तो इससे पूरी तरह अनभिज्ञ है। इस पहल से लोगों में गौरैया के संरक्षण लेकर जागरूकता आएगी। टाइगर रिजर्व प्रबंधन इस पक्षी को संरक्षित करने की कोशिश करेगा। इसके लिए मैदानी अमले को निर्देश दिया जाएगा कि वह जंगल में इन पक्षी की खोज करें। नजर आने पर गौरैया की तस्वीर लेंगे। ग्रामीणों से भी सहयोग लिया जाएगा। उनसे सुझाव मांगे जाएंगे।

अटपटी-चटपटी

  1. यहां बारिश में सड़कों पर आ जाती है केकड़ों की बाढ़, जानिए सच

  2. इलाके में स्पीकर पर गूंजी ऐसी आवाजें कि उड़ गई लोगों की नींद

  3. अब फैशन के लिए ही नहीं होंगे टैटू, सिस्टम भी ऑपरेट कर पाएंगे

  4. 10 रुपए के श्रीखंड में निकला बाल, चुकाने होंगे 7 हजार रुपए

  5. बीवी की याद में फूट-फूट कर रोने लगा, करनी पड़ी इमर्जेंसी लैंडिंग

  6. उम्र को नहीं बढ़ने देगी ये गोली, छह माह में इंसानों पर शुरू होगा परीक्षण

  7. अनोखा विरोध : महिलाओं ने वाइन शॉप पर जाकर खरीदी शराब

  8. इन्होंने रखा होटल का ऐसा नाम बोलते हुए भी आएगी शर्म

  9. 44 साल से मैकडोनाल्ड में सर्विस कर रही है 94 साल की महिला

  10. एक सीढ़ी के दम पर चोरी कर लिया 26 करोड़ का सोने का सिक्का

  11. गांव का कुआं सूखा तो चंदा कर बिछा दिए 2 हजार मीटर पाइप

  12. समुद्र किनारे मिली अजीब मछली को देख डर गए लोग, देखने जुटी भीड़

  13. लड़की को भारी पड़ी सेल्फी, पुलिस ने ली घर की तलाशी और किया गिरफ्तार

  14. 12 साल का 'बच्चा' चार साल बड़ी लड़की को गर्भवती कर पिता बना

  15. बीस साल से साथ रह रहे नाग-नागिन ने एक साथ प्राण त्यागे

  16. अंडे में निकला हीरा, शादी करने जा रही महिला ने माना शुभ

  17. फेसबुक चलाने से मना किया तो घर छोड़कर चली गईं बेटियां

  18. बेटे की मौत के बाद सास ने बेटी की तरह बहू को किया विदा

  19. कद केवल 2 फीट लेकिन अरमान आसमां से भी ऊंचे

  20. थल सेना भर्ती के लिए बॉडी बिल्डिंग पड़ सकती है महंगी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.