मालगाड़ी बेपटरी, आधा दर्जन ट्रेनें प्रभावितUpdated: Wed, 31 Aug 2016 07:37 AM (IST)

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज डोंगरगढ़ सारेकसा स्टेशन के पास मंगलवार सुबह एक मालगाड़ी पटरी से उतर गई। इस घटना का असर आधा दर्जन ट्रेनों के परिचालन पर पड़ा। इंटरसिटी एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, इतवारी पैसेंजर व जेडी अपने निर्धारित समय से 4-5 घंटे देर से बिलासपुर पहुंची। इससे यात्री हलाकान रहे। वहीं बिलासपुर- नागपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस को तीन घंटे रिशेड्यूल क

बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

डोंगरगढ़ सारेकसा स्टेशन के पास मंगलवार सुबह एक मालगाड़ी पटरी से उतर गई। इस घटना का असर आधा दर्जन ट्रेनों के परिचालन पर पड़ा। इंटरसिटी एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, इतवारी पैसेंजर व जेडी अपने निर्धारित समय से 4-5 घंटे देर से बिलासपुर पहुंची। इससे यात्री हलाकान रहे। वहीं बिलासपुर- नागपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस को तीन घंटे रिशेड्यूल करना पड़ा। यह ट्रेन दोपहर 3.55 बजे की जगह शाम 6.45 बजे रवाना हुई।

मालगाड़ी के एक वैगन के सभी पहिए पटरी से उतर गए। इस घटना से रेल संपत्ति की क्षति तो हुई ही साथ ही इसका असर कोचिंग ट्रेनों पर भी पड़ा। 12856 नागपुर- बिलासपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस, अमृतसर- बिलासपुर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, 58112 इतवारी-टाटा पैसेंजर, गोंदिया-झारसुगुड़ा पैसेंजर को बीच रास्ते में नियंत्रित करना पड़ा। इससे यात्री हलाकान भी हुए। इधर उतरे वैगन को वापस पटरी पर लाने के लिए रेलकर्मी जद्दोजहद करने लगे। घंटों मशक्कत के बाद लाइन क्लीयर हुई। इसके बाद ही ट्रेनों का परिचालन सामान्य हुआ। इंटरसिटी एक्सप्रेस 4 घंटे, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस डेढ़ घंटे और दोनों पैसेंजर ट्रेनें 5 घंटे देर से बिलासपुर पहुंचीं। जिन यात्रियों को इस ट्रेन से यात्रा करनी थी ऐसे यात्री स्टेशन में खड़े होकर इंतजार करते नजर आए। इंक्वायरी में भी जानकारी लेने वाले यात्रियों की लंबी कतार लगी रही। वहीं ट्रेन में सफर कर रहे यात्री भी इससे हलाकान नजर आए। पैसेंजर ट्रेनें देर से पहुंचने के बाद तय समय तक ठहरी और इसके बाद रवाना हो गई। लेकिन इंटरसिटी एक्सप्रेस की लेटलतीफी का असर वापस नागपुर के लिए छूटने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस पर पड़ा। इस ट्रेन का एक ही रैक है। यहां पहुंचने के बाद कोचिंग डिपो में मेंटेनेंस भी होता है। देर से पहुंचने के कारण यह ट्रेन बिलासपुर से करीब तीन घंटे विलंब से 6.45 बजे छूटी।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.