सरकार की इन खामियों को दूर करने में जुटी 150 विद्यार्थियों की टीमUpdated: Mon, 09 Oct 2017 01:21 AM (IST)

इन समस्याओं का कैसे निदान करना है इसके सुझाव भी दे रहे हैं। महिलाओं के साथ अंगना बैठक भी कर रहे। रात मशाल जूलुस निकाल रहे।

दुर्ग, भिलाई । सरकारी योजनाओं की कमी को दूर करने बीएड के 150 विद्यार्थियों की टीम ने गांवों में सर्वे शुरू किया है। स्कूल की शिक्षा गुणवत्ता कमजोर हो या फिर टॉयलेट बनाकर मैदान जाने वाले लोग ये टीम उनकी सूची बना रही है। जहां जैसी भी समस्या मिलेगी उसे ग्रामसभा लेकर निदान भी कराएंगे।

दुर्ग जिला कलेक्टर उमेश कुमार अग्रवाल और जिला शिक्षा अधिकारी आशुतोष चावरे ने माइक्रोप्लानिंग की। शिक्षा महाविद्यालय रायपुर के प्राचार्य डॉ. योगेश शिवहरे का सहयोग लेकर बीएड विद्यार्थियों के माध्यम से इस प्लान को अंजाम दिया जा रहा है।

खास बात यह है कि यह प्लान प्रदेश में केवल दुर्ग जिले में बनाई गई है। दो टीम भी इस कार्य की मानिटरिंग कर रही है। पहली टीम का नेतृत्व डीईओ आशुतोष चावरे और दूसरी टीम का नेतृत्व सर्वशिक्षा अभियान के मिशन अधिकारी पुष्पा पुरुषोत्तमन कर रहे हैं।

गांवों में इस तरह हो रहा काम

टीम 19 गावों का सर्वे कर रही है। एक गांव के लिए आठ विद्यार्थियों की टीम है। इसमें दुर्ग, धमधा और पाटन ब्लॉक के गांव शामिल है। इन गावों में टीम अलसुबह प्रभात फेरी निकालती है। सुबह गांव में सफाई करते है।

दिनभर सर्वे का काम होता है जिसमें सरकारी योजनाओं में आने वाली समस्याओं को आइडेंटीफाई करते है और उसे छोटी ग्रामसभा लेकर पंचायत प्रतिनिधियों के समक्ष रखते है। इन समस्याओं का कैसे निदान करना है इसके सुझाव भी दे रहे हैं। महिलाओं के साथ अंगना बैठक भी कर रहे। रात मशाल जूलुस निकाल रहे।

इस तरह की समस्याएं ऐसे सुलझा रहे

केस एक

स्कूल में शिक्षा गुणवत्ता लाने के लिए कमजोर बच्चों का चिन्हांकन करते है। इन बच्चों को हर कक्षा के एक होशियार बच्चे को गोद देते है। उन्हें चार महीने अपनी तरफ से पढ़ाने की जिम्मेदारी सौंपते हैं। लगातार स्कूल भेजने के लिए पालकों को कह रहे।

केस दो

घरों में गए तो शौचालय बना मिलता है और जानकारी लेने पर पता चलता है कि इसका इस्तेमाल नहीं करते। ऐसे लोगों का नाम ग्राम सभा में लेकर उन्हें समझाइश देते है कि वहां जाएं। इससे बीमारी कैसे रोक सकते है।

केस तीन

महिलाओं के साथ अंगना बैठक कर उनकी समस्याओं को सुन रहे। पेंशन नहीं मिला हो या फिर जननी सुरक्षा योजना के पैसे न मिला हो, संबंधित विभाग से संपर्क कर उसे सुलझाने में मदद कर रहे।

हर विभाग की योजनाओं का सर्वे

'टीम हर विभाग की सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन का सर्वे कर रही है। उसका निदान भी ग्रामसभा के माध्यम से करवा रहे है। जो जिला स्तर का है उसका प्रस्ताव ग्रामसभा से जिले को भिजवाना है।' -पुष्पा पुरुषोत्तमन, मानिटरिंग अफसर व डीपीओ सर्वशिक्षा

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.