प्रमोशन में तीन साल पीछे हैं भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारीUpdated: Fri, 14 Jul 2017 01:22 AM (IST)

भिलाई इस्पात सयंत्र के कर्मी क्लस्टर प्रमोशन के मामले सेल के अन्य यूनिटों की तुलना में पीछे रह गए हैं।

भिलाई। भिलाई इस्पात सयंत्र के कर्मी क्लस्टर प्रमोशन के मामले सेल के अन्य यूनिटों की तुलना में पीछे रह गए हैं। वे अन्य यूनिट के उन कर्मियों से तीन वर्ष तक पीछे हो गए हैं, जिन्होंने उनके साथ ही सेल ज्वाइन किया था। कर्मचारियों को इस वजह से हो रहे नुकसान को लेकर गुरुवार को बीएसपी वर्कर्स यूनियन (बीडब्ल्यूयू) ने बीएसपी के आईआर प्रमुख के पास आपत्ति दर्ज कराई। वहीं इस अव्यवस्था को लेकर सवाल भी उठाए।

गौरतलब हो कि बीएसपी कर्मचारियों को क्लस्टर बदलने पर तीन साल में प्रमोशन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। पद न होने का अभाव बताकर उन्हें एक साल तक अटका दिया जा रहा है। संयंत्र के आठ से नौ हजार कर्मचारी इसी स्थिति से जूझ रहे हैं।

वहीं सेल के ही अन्य यूनिट में क्लस्टर बदलने पर तीन-तीन साल में ही प्रमोशन मिल रहा है। इसे लेकर असंतोष की स्थिति है। बीडब्ल्यूयू के पदाधिकारियों ने गुरुवार को बीएसपी के आईआर विभाग के प्रमुख सूरज सोनी से मुलाकात कर सेल के अन्य संयंत्रों के मुकाबले प्रमोशन में बीएसपी कर्मियों के साथ हो रहे भेदभाव पर नाराजगी जताई।

यूनियन के अध्यक्ष उवल दत्ता के नेतृत्व में पदाधिकारी आईआर विभाग पहुंचे थे। दत्ता ने कहा कि सेल की मुनाफा कमाने वाली इकाई भिलाई को छोड़ अन्य संयंत्रो में कार्मियों को क्लस्टर प्रमोशन में एक साल का फायदा करीब 15 साल पहले से मिल रहा है। प्रतिनिधि मंडल में शिव बहादुर सिंह, दिलेश्वर राव, लक्ष्मीकांत, राकेश गुप्ता, जोगा राव, आरएल सोनवानी, डी राव, राम सहाय साहू थे।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.