भारत में रोजगार के बाजार में बहार आने के सकारात्मक संकेतUpdated: Tue, 17 Nov 2015 08:52 PM (IST)

भर्तियों की रफ्तार बढ़ाएगा इंडिया इंक, 88 फीसद कंपनियां कर्मियों की संख्या बढ़ाने की इच्छुक।

नई दिल्ली। रोजगार बाजार की हालत पूरी दुनिया में सुधर रही है, मगर भारत में तो बहार आने के संकेत मिल रहे हैं। देश के 88 फीसद नियोक्ताओं ने कहा है कि वे अपने कर्मचारियों की संख्या में बढ़ोतरी की तैयारी कर रहे हैं। रिक्रूटमेंट फर्म एंटल इंटरनेशनल की ताजा सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला गया है।

18वें एंटल ग्लोबल स्नैपशॉट सर्वे के मुताबिक भारत में फिलहाल 63 फीसद कंपनियां नई नौकरियां दे रही हैं। इससे साफ संकेत मिल रहा है कि रफ्तार पकड़ रही भारतीय अर्थव्यवस्था मैनेजरों और पेशवरों के लिए मांग बढ़ा रही है। नौकरियों को लेकर माहौल सकारात्मक ही रहने वाला है।

88 फीसद कंपनियों ने अपने कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने की इच्छा जताई है। बीते साल सितंबर के मुकाबले कंपनियां 10 फीसद की दर से कर्मचारियों की संख्या बढ़ा रही हैं। ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि सिर्फ 29 फीसद कंपनियां ऐसी हैं जिन्होंने अपने कुछ कर्मियों को बाहर करने की बात कही है।

एंटल पूरे विश्व में कर्मचारियों की भर्ती से जुड़े रुझानों का पता लगाती है। कंपनी की रिपोर्ट के मुताबिक, उपभोक्ता-केंद्रित उद्योग नौकरियां देने और आगे भी भर्ती जारी रखने वाले हैं। ई-कॉमर्स कंपनियां इस मामले में आगे रहेंगी। इसके अलावा शिक्षा, फार्मा, आईटी एनेबल्ड सर्विसेज यानी आईटीईएस व कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स नौकरियों के लिहाज से बेहतर आउटलुक वाले सेक्टर हैं।

भारत में सेक्टर वार स्थिति

अकाउंटिंग में 79, शिक्षा में 78, ई-कॉमर्स में 74, बीपीओ में 73, आईटी में 67, बैंकिंग में 65 और फार्मा में 62 फीसद ज्यादा नौकरियां आ रही हैं। इसे देखते हुए अगली तिमाही में आईसीटी हार्डवेयर, इलेक्ट्रॉनिक्स, अकाउंटिंग, ई-कॉमर्स, मार्केटिंग व एडवरटाइजिंग में नौकरियों के अच्छे मौके रहेंगे।

अकाउंटिंग और फाइनेंस, एचआर, ऑपरेशन, सेल्स और मार्केटिंग में लोग कम हैं। बैंकिंग और कंस्ट्रक्शन क्षेत्र के पेशेवरों को आने वाले समय में ज्यादा प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा। वहीं, टेलीकॉम, रीयल एस्टेट और इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र की फर्मों में कुछ कर्मियों को नौकरी से बाहर भी किया जा रहा है।

ग्लोबल रोजगार बाजार का हाल

इस सर्वे में 30 देशों की 9,500 फर्मों को कवर किया गया है। इसमें 2,292 भारतीय कंपनियां भी शामिल हैं। सर्वेक्षण रिपोर्ट के मुताबिक विश्व भर में प्रोफेशनल और मैनेजर्स के लिए नौकरी के मौके बढ़ेंगे। पूरी दुनिया में भर्ती गतिविधियों में जनवरी के 68 फीसद की तुलना में 70 फीसद तक बढ़ोतरी का रुझान दिख रहा है। इसी तरह छंटनी की तैयारी कर रही कंपनियों का अनुपात भी 24 से घटकर 19 फीसद पर आ गया है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.