जनरल मोटर्स साल के आखिर में समेट लेगी कारोबार, जानिए अब यह होगा आपकी कार काUpdated: Fri, 19 May 2017 12:14 PM (IST)

जनरल मोटर्स ने 31 दिसंबर 2017 से भारत में शेवरले कारों की बिक्री पूरी तरह से बंद करने की घोषणा की है।

नई दिल्ली। जनरल मोटर्स ने 31 दिसंबर 2017 से भारत में शेवरले कारों की बिक्री पूरी तरह से बंद करने की घोषणा की है। भारत में शेवरले के करीब एक लाख ग्राहक हैं, इन में से करीब 6000 ग्राहक इसी साल जुड़े हैं, कंपनी के इस फैसले के बाद शेवरले के मौजूदा ग्राहकों के मन में कई तरह के सवाल उठना लाजिमी है, इन्हीं सवालों के जवाब जानने के लिए हमने बात की कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों से..

यहां होगी आपके कार की सर्विस

शेवरले का कहना है कि उसके ग्राहकों को सर्विस या मेंटेनेंस को लेकर किसी भी तरह की दिक्कतों का सामना नहीं करना होगा, उन्हें पहले की तरह बेहतर सेवा ही दी जाएगी। अगर किसी की शेवरले कार में कोई परेशानी आती है तो वह कंपनी की डीलरशिप/सर्विस सेंटर या ऑथोराइज्ड सर्विस सेंटर पर जाकर कार को सुधरवा सकता है।

स्पेयर पार्ट्स खरीदने में नहीं आएगी परेशानी

कंपनी ने कहा है कि ग्राहकों को मेंटेनेंस से जुड़ी कोई भी समस्या नहीं आएगी, सभी कारों के स्पेयर पार्ट्स भी आसानी से पहले की तरह उपलब्ध रहेंगे। कंपनी के अनुसार देशभर में 150 डीलर नेटवर्क पर शेवरले कारों के स्पेयर पार्ट्स मिलेंगे।

मौजूदा वारंटी और केयर प्रोग्राम पर नहीं पड़ेगा कोई असर

जनरल मोटर्स इंडिया के एमडी और प्रबंध निदेशक काहेर काज़ेम ने कहा है कि कारों की वारंटी पर इस फैसला का कोई असर नहीं पड़ेगा। शेवरले कम्प्लीट केयर प्रोग्रोम आगे भी मान्य रहेगा, आपको पहले की तरह 24/7 सर्विस सेंटर सपोर्ट और रोडसाइड असिस्टेंस सपोर्ट मिलता रहेगा।

कार की री-सेल वैल्यू पर पड़ेगा यह असर

आशंका है कि यूज्ड/सेकेंड हैंड मार्केट में शेवरले कारों की कीमतों पर इस फैसले का नकारात्मक असर पड़ेगा, 31 दिसम्बर 2017 से सभी शेवरले मॉडलों की बिक्री बंद हो जाएगी, ऐसे में यूज़्ड कार मार्केट में इनकी कीमत और ज्यादा गिर जाएगी।

चुनौतीपूर्ण होगा शेवरले की नई या फिर पुरानी कार खरीदना

ये फैसला वाकई चुनौती भरा है, डीलरशिप मौजूदा स्टॉक को जल्दी से जल्दी निपटाने की कोशिश करेंगे, ऐसे में वे इन पर अच्छा-खासा डिस्काउंट भी देंगे, इसके अलावा ग्राहक थोड़ी कोशिश करें तो डिस्काउंट और भी बढ़ सकता है, लेकिन इस बात को ध्यान में जरूर रखना होगा कि आगे चल कर आपकी कार की री-सेल वैल्यू कम ही होगी, चाहे आप एक साल बाद कार बेचें या फिर तीन साल बाद।

भारत में नहीं आ पाएंगी नई लॉन्च होने वाली कारें

कुछ वक्त पहले तक नई शेवरले बीट और बीट पर बनी क्रॉसओवर हैचबैक बीट एक्टिव और कॉम्पैक्ट सेडान इसेंशिया सुर्खियों में थी, लेकिन अब साफ हो गया है कि ये सभी कारें भारतीय सड़कों पर नहीं उतर पाएंगी।

भारत के प्लांट्स में जारी रहेगा प्रोडक्शन लेकिन होगा केवल एक्सपोर्ट

शेवरले अब यहां कार नहीं बेचेगी, लेकिन विदेशी बाज़ारों के लिए कार बनाती रहेगी। कंपनी के महाराष्ट्र स्थित तालेगांव प्लांट में प्रोडक्शन जारी रहेगा, लेकिन यहां बनी कारों को केवल एक्सपोर्ट करने के मकसद से बनाया जाएगा। बेंगलुरु स्थित टेक्नीकल और आर एंड डी सेंटर भी चलता रहेगा।

सौजन्यः जागरण ऑटो डेस्क

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.