ब्रिटेन में भारतीय कंपनियों ने दी 1 लाख लोगों को नौकरीUpdated: Fri, 04 Apr 2014 03:41 PM (IST)

फिलहाल ब्रिटेन में भारतीयों के स्वामित्व वाली 700 से अधिक छोटी-बड़ी कंपनियां हैं।

लंदन। भारतीय कंपनियां ब्रिटिश अर्थव्यवस्था की मजबूती में अहम भूमिका निभा रही हैं। वहां सकल घरेलू उत्पादन (जीडीपी) बढ़ा रही हैं और रोजगार के मौके पैदा करने में योगदान कर रही हैं। ग्रांट थॉर्नटन यूके एलएलपी की एक रिपोर्ट में बात कही गई है।

यह रिपोर्ट भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के सहयोग से तैयार की गई है। इसमें ब्रिटेन में लिस्टेड, लेकिन मूलतः भारतीय कंपनियां शामिल हैं और कारोबार एवं रोजगार के आकार के लिहाज से सबसे तेज तरक्की करने वाली कंपनियों में शुमार हैं।

रिपोर्ट में कहा गया कि फिलहाल ब्रिटेन में भारतीयों के स्वामित्व वाली 700 से अधिक छोटी-बड़ी कंपनियां हैं। इनमें एक लाख से अधिक लोग काम करते हैं। इनमें से 41 कंपनियां ऐसी हैं, जिनके कारोबार में सालाना 10 प्रतिशत से अधिक बढ़ोतरी हो रही है। दूसरी ओर इन्हीं कंपनियों में 26 ऐसी हैं, जिनका बिजनेस सालाना 20 प्रतिशत से अधिक तेजी से बढ़ रहा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन में 41 प्रमुख भारतीय कंपनियों को करीब 19 अरब पाउंड आय हुई है। इन कंपनियों की आय में 80 प्रतिशत से अधिक योगदान टाटा मोटर्स का रहा है। यह समूह ब्रिटेन की 5 बड़ी कंपनियों, 17 मझोली कंपनियों और 19 छोटे-मध्यम उपक्रमों का प्रतिनिधित्व करता है।

ग्रांट थॉर्नटन यूके एलएलपी के पार्टनर अनुज चंदे ने कहा, 'भारतीय कंपनियों द्वारा सफल ब्रिटिश निवेश के मौके बहुत हैं। उन्होंने कहा कि कई भारतीय उद्यमी ब्रिटेन से बिजनेस करने का फैसला कर रहे हैं। इसमें ब्रिटेन और भारत के सांस्कृतिक इतिहास की बड़ी भूमिका रही है। इस तरह उनकी ब्रिटिश बाजार तक सीधी पहुंच होती है और सुधरते यूरोपीय बाजार में प्रवेश करने का मौका मिलता है। इस रिपोर्ट को ब्रिटेन में भारतीय उच्चायुक्त रंजन मथाई ने इसी हफ्ते एक रात्रिभोज के दौरान पेश किया था।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.