गिरावट के साथ बंद हुआ बाजार, सेंसेक्स 80 अंक फिसलाUpdated: Thu, 15 Jun 2017 09:28 AM (IST)

गुरुवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ है।

मुंबई। दायरे में कारोबार कर गुरुवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ है। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 80 अंक की कमजोरी के साथ 31075 के स्तर पर और निफ्टी 44 अंक की गिरावट के साथ 9573 के स्तर पर कारोबार कर बंद हुआ है। नैशनल स्टॉक एक्सचेंज पर मिडकैप और स्मॉलकैप शेयर्स बढ़त के साथ कारोबार कर बंद हुआ है। मिडकैप इंडेक्स में 0.29 फीसद और स्मॉलकैप में 0.17 फीसद की तेजी देखने को मिली है।

आईटी सेक्टर में बिकवाली

सेक्टोरियल इंडेक्स की बात करें तो एफएमसीजी (0.03 फीसद), फार्मा (1.25 फीसद) और रियल्टी (2.16 फीसद) को छोड़ सभी सूचकांक हरे निशान में कारोबार कर बंद हुए हैं। सबसे ज्यादा बिकवाली आईटी सेक्टर में देखने को मिली है। ऑटो (0.60 फीसद), फाइनेंशियल सर्विस (0.41 फीसद) और मेटल (0.38 फीसद) की कमजोरी हुई है।

आईओसी और बीपीसीएल टॉप लूजर

दिग्गज शेयर्स की बात करें तो निफ्टी में शुमार शेयर्स में से 12 हरे निशान, 38 गिरावट और एक बिना किसी परिवर्तन के कारोबार कर बंद हुआ है। सबसे ज्यादा तेजी ऑरोफार्मा, विप्रो, सिप्ला, रिलायंस और डॉ रेड्डी के शेयर्स में हुई है। वहीं, गिरावट आईओसी, बीपीसीएल, टीसीएस, इंफ्राटेल और हिंडाल्को के शेयर्स में हुई है।

विशेषज्ञ का नजरिया

एस्कॉर्ट सिक्योरिटी के हेड (रिसर्च) आसिफ इकबाल का मानना है कि भारतीय बाजारों में आई गिरावट एशियाई बाजारो में बिकवाली का असर है। अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी का भारतीय बाजार पर कोई गहरा असर नहीं होगा। इसके पीछे उन्होंने दो बड़े कारण बताए पहला ब्याज दरों में यह बढ़ोतरी पहले से संभावित थी और इसको बाजार पचा चुका है। दूसरा बाजार में इस समय तेजी का बड़ा कारण बाजार में मौजूद लिक्विडिटी, मजबूत रुपया और निवेश के लिहाज से भारत की मजबूत स्थिती है। ऐसे में एक करेक्शन के बाद बाजार में तेजी वापस लौटते दिखेगी।

टेक्निकल चार्ट पर बाजार

शेयर टिप्स इंफो के फाउंडर और टेक्निकल एनालिस्ट रिशी सखूजा का मानना है कि निफ्टी में शुरूआती मिनटों में कुछ कमजोरी देखने को मिल सकती है। निफ्टी के लिहाज से 9580 और 9520 का स्तर सपोर्ट के लिहाज से अच्छा है। इस स्तर से बाजार संभलते हुए दिख सकते हैं। वहीं ऊपर की तरफ 9655 का स्तर बाधा (रेजिस्टेंस) है, जिसके ऊपर जाने में निफ्टी को कठनाई का सामना करना पड़ सकता है।

फेडरल रिजर्व ने किया ब्याज दरों में 0.25% का इजाफा

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने बुधवार को ब्याज दरों में बढ़ोतरी की घोषणा की। फेड ने ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की है। इस बढ़ोतरी के बाद अमेरिका में इंटर बैंक लैंडिग रेट 1.25 फीसद हो गए हैं। ब्याज दरों में बढ़ोतरी का फैसला वाशिंगटन में 2 दिन चली फेडरल रिजर्व की बैठक के बाद बुधवार को लिया गया। गौरतलब है कि अमेरिकी सेंट्रल बैंक की ओर से इस साल यह दूसरी बढ़ोतरी की गई है, इससे पहले मार्च में फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में चौथाई फीसद का इजाफा किया था।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.